वायलिन वादक टी. एन. कृष्णन की 92 साल की उम्र में निधन, पीएम ने जताया शोक

मशहूर वायलिन वादक टी. एन. कृष्णन की तबीयत खराब होने से 92 साल की उम्र में निधन

दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “पद्म पुरस्कार से सम्मानित वायलिन वादक टी. एन. कृष्णन” के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। सोमवार को टी. एन. कृष्णन की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें चेन्नई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां पर उनकी मृत्यु हो गयी। टी. एन. कृष्णन 92 वर्ष के थे।

वायलिन वादक के लिए पीएम का संदेश

पीएम ने अपने टि्वट संदेश में कहा ,“ प्रख्यात वायलिन वादक टी. एन. कृष्णन का निधन होने से संगीत की दुनिया में एक बहुत बड़ा ख़ालीपन आ गया है। उनके कार्यों और रचनाओं ने हमारी संस्कृति में समाहित भावनाओं तथा प्रवृतियों की एक विस्तृत श्रृंखला को खूबसूरती से प्रस्तुत किया है। वह युवा संगीतकारों के लिए एक उत्कृष्ट संरक्षक भी थे। उनके परिवार और प्रशंसकों के लिए संवेदना। ओम शांति।”

टीएन कृष्णन का संगीत में इतिहास

टीएन कृष्णन का जन्म ‘केरल’ में 6 अक्टूबर 1928 में हुआ था। टीएन कृष्णन के पिता का नाम ए नारायण अय्यर था और मां का नाम अम्मीनी अम्मल था। 2 नवंबर की शाम को टीएन कृष्णन की ‘तबीयत खराब’ होने पर उन्हें चेन्नई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर उनकी मृत्यु हो गई। टीएन कृष्णन 92 साल के थे।

वायलिन कला

बेला या वायलिन लोकप्रिय वाद्ययंत्र में से एक है जिसका प्रयोग पाश्चात्य संगीत से लेकर हर तरह के संगीत में किया जाता है।तारवाले वाद्ययंत्रों जैसे- सारंगी, सितार आदि में बेला सबसे छोटा, परंतु ऊँचे तारत्ववाला वाद्ययंत्र है।

यह भी पढ़े:पेट्रोल-डीजल के दाम में 32 वें दिन भी कोई बदलाव नहीं हुआ, मुंबई में डीजल 76.86 रुपये प्रति लीटर पर टिका 

यह भी पढ़े:IPL 2020: जानें मुंबई और हैदराबाद में किस टीम का पलड़ा ज्यादा भारी

Related Articles

Back to top button