…तो कोहली आज कप्तान नहीं होते

chetan-chauhan

नई दिल्ली। डीडीसीए घोटाले में रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं। अब डीडीसीए ने कहा है कि टीम चयन में कोई भी गड़बड़ी नहीं की गई है। डीडीसीए ने ऐसे आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि वह दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के खिलाफ मानहानि का केस करेगा। डीडीसीए के कार्यवाहक अध्यक्ष चेतन चौहान ने कहा कि डीडीसीए पर लगाए गए सारे आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने सबसे बड़ी बात यह कही कि अगर डीडीसीए में भ्रष्टाचार होता तो आज कोहली टीम के कप्तान नहीं होते।

यह भी पढ़ें:  ‘मेरे घर रात को आओ, तुम्हारा बेटा सेलेक्‍ट हो जाएगा’

तीन एजेंसियां कर रहीं जांच
चेतन चौहान ने कहा कि तीन एजेंसियां पहले ही डीडीसीए के खिलाफ मामलों की जांच कर रही है और ‘आप’ सरकार ने जो नई जांच समिति बिठाई है, उसकी कोई जरूरत नहीं है। इससे पहले, बीजेपी से निलंबित सांसद कीर्ति आजाद ने जहां बीसीसीआई और डीडीसीए में नॉमिनेट कांग्रेस नेताओं पर सीधे हमला बोला, वहीं आम आदमी पार्टी ने एक बार फिर अरुण जेटली को निशाने पर लिया। आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया कि जेटली भ्रष्टाचार को छुपाने में जुटे हुए थे।

यह भी पढ़ें:  #DDCA मामले में केजरीवाल बोले ‘बीजेपी माफी की भीख मांग रही है’

‘आप’ ने जेटली से पूछे पांच सवाल
आम आदमी पार्टी ने दावा किया कि अरुण जेटली ने 2011 और 2012 में दिल्ली पुलिस के अधिकारियों को चिट्ठियां लिखीं और डीडीसीए में भ्रष्टाचार के एक मामले में जारी जांच बंद करने के लिए कहा। आम आदमी पार्टी ने जेटली से 5 सवाल पूछे –
1. क्या यह सही नहीं है कि आपने दिल्ली पुलिस पर दबाव बनाने के लिए राज्यसभा के विपक्ष के नेता के पद का दुरुपयोग किया?
2. क्या आप इस बात से इनकार कर सकते हैं कि आपने जो किया वो पुलिस की जांच में बाधा डालना है?
3. आप किस आधार पर इस नतीजे पर पहुंचे कि सिंडिकेट बैंक से जुड़ी शिकायतों का कोई आधार नहीं था?
4. क्या आपके लिए पद पर बने रहना उचित होगा, ख़ासकर जब दिल्ली पुलिस सीधे केंद्र सरकार को रिपोर्ट करती है?
5. जांच को भटकाने की कोशिश में आपका क्या हित है और अगले AGM में क्या आपने इसकी जानकारी दी थी?

Related Articles

Leave a Reply