Vishwa Bharati University: PM मोदी ने 50 हजार करोड़ रुपए खर्च करने का रखा प्रस्ताव

विश्व भारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में PM मोदी ने नेशनल रिसर्च फाउंडेशन के माध्यम से आने वाले 5 साल में 50 हजार करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव रखा है

कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विश्व भारती विश्वविद्यालय (Vishwa Bharati University) के दीक्षांत समारोह में हुए शामिल। इस समारोह में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी मौजूद हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि आप सिर्फ एक विश्वविद्यालय का ही हिस्सा नहीं हैं, बल्कि एक जीवंत परंपरा का हिस्सा भी हैं। गुरुदेव अगर विश्व भारती को सिर्फ एक यूनिवर्सिटी के रूप में देखना चाहते, तो वो इसे ग्लोबल यूनिवर्सिटी या कोई और नाम दे सकते थे, लेकिन उन्होंने इसे विश्व भारती विश्वविद्यालय नाम दिया।

भारत की समृद्ध धरोहर

PM मोदी ने कहा कि गुरुदेव की विश्व भारती से अपेक्षा थी कि यहां जो सिखने आएगा वो पूरी दुनिया को भारत और भारतीयता की दृष्टि से देखेगा। गुरुदेव का ये मॉडल भ्रम, त्याग और आनंद के मूल्यों से प्रेरित था इसलिए उन्होंने विश्व भारती को सिखने का ऐसा स्थान बनाया जो भारत की समृद्ध धरोहर को आत्मसात करे।

गुरुदेव टैगोर के लिए विश्व भारती सिर्फ ज्ञान देने वाली एक संस्था मात्र नहीं थी। ये एक प्रयास है भारतीय संस्कृति के शीर्षस्थ लक्ष्य तक पहुंचने का। जिसे हम कहते हैं स्वयं को प्राप्त करना।

विश्व भारती तो अपने आप में ज्ञान का वो उन्मुक्त समंदर है, जिसकी नींव ही अनुभव आधारित शिक्षा के लिए रखी गयी थी। ज्ञान की रचनात्मकता की कोई सीमा नहीं होती है, इसी सोच के साथ गुरुदेव ने इस महान विश्वविद्यालय की स्थापना की थी।

यह भी पढ़ेहफ्ते के आखिरी दिन बाज़ार में गिरावट, Sensex 380 अंक गिरा Nifty 15118 पर बंद हुआ

नेशनल रिसर्च फाउंडेशन

प्रधानमंत्री ने कहा कि हाल ही में सरकार ने देश और दुनिया के लाखों जर्नल की फ्री एक्सेस अपने स्कॉलर को देने का फैसला किया है। इस साल बजट में भी रिसर्च के लिए नेशनल रिसर्च फाउंडेशन के माध्यम से आने वाले 5 साल में 50 हज़ार करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव रखा है।

भारत की आत्मनिर्भरता, देश की बेटियों के आत्मविश्वास के बिना संभव नहीं है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पहली बार जेंडर इंक्लूजन फंड की भी व्यवस्था की गई है।

हम इस वर्ष अपनी आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। विश्व भारती के प्रत्येक विद्यार्थी की तरफ से देश को सबसे बड़ा उपहार होगा कि भारत की छवि को और निखारने के लिए आप ज़्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करें।

यह भी पढ़ेबनारस में हुआ अनोखा क्रिकेट मैच, धोती-कुर्ता पहने दिखें सभी खिलाड़ी और कमेंट्री भी हुआ संस्कृत में, देखें वीडियो

Related Articles

Back to top button