गुरूनानक जयंती पर वी.पी.सिंह बदनौर आज करेंगे म्यूजियम आफ टरीज का उद्घाटन

पंजाब के राज्यपाल वी.पी.सिंह बदनौर चंडीगढ़ में सोमवार को गुरूनानक जयंती पर म्यूजियम आफ टरीज का उद्घाटन करेंगे। कोविड- 19 के कारण उद्घाटन आनलाइन होगा।

चंडीगढ़: पंजाब के राज्यपाल वी.पी.सिंह बदनौर चंडीगढ़ में सोमवार को गुरूनानक जयंती पर म्यूजियम आफ टरीज का उद्घाटन करेंगे। कोविड- 19 के कारण उद्घाटन आनलाइन होगा। पूर्व सांसद तरलोचन सिंह और पी.एच.डी.सी.सी.आई. के प्रधान करने गिलहोत्रा इस आनलाइन उद्घाटन में हिस्सा लेंगे। पूर्व आई.ए.एस. अधिकारी और लेखक डी.एस. जसपाल द्वारा तैयार किया गया म्युजियम आफ ट्रीज सिख धर्म के पवित्र वृक्षों की जेनेटिक तौर पर सही प्रतिकृतियों से तैयार किया गया एक पवित्र बाग है। पवित्र स्थानों के नाम वृक्षों के नाम पर रखना सिख धर्म के लिए विलक्षण है।

दुनिया में अपनी किस्म के पहले इस प्रोजैक्ट के लिए भारत सरकार के सांस्कृतिक मंत्रालय ने फंडिंग की है और रजिस्टर्ड एन.जी.ओ. चंडीगढ़ नेचर एंड हैल्थ सोसायटी द्वारा इसको प्रोत्साहित किया गया है। यह भारत का एकमात्र आउटडोर वाक-थ्रू अजायब घर है जहाँ यात्री विभिन्न पवित्र वृक्षों की जेनेटिक तौर पर सही प्रतिकृतियां देख सकते हैं। हर वृक्षों के साथ आठ फुट ऊँची तख्तियां लगी हैं जिस पर वृक्ष की तस्वीर के साथ ही इसकी वनस्पति विशेषताओं का विवरण और वृक्ष और पवित्र स्थान के ऐतिहासिक और धार्मिक पृष्टभूमि के बीच सम्बन्ध के बारे दर्शाया गया है।

ये भी पढ़े : देश को गंभीर हालात में छोड़कर नगर चुनाव में व्यस्त हैं गृहमंत्री: भारद्वाज

मूल वृक्षों के सही जीनोटाईप को दोबारा तैयार करके, बचे हुए पवित्र वृक्षों की देखभाल और प्रसार के लिए अजायब घर ने बारह पवित्र वृक्षों की जेनेटिक तौर पर सही प्रतिकृतियां सफलतापूर्वक तैयार की हैं जिसमें दरबार साहिब, अमृतसर की दुख भंजनी बेरी य गुरुद्वारा बेर साहिब, सुल्तानपुर लोधी की बेरी, गुरुद्वारा बाबे-दी -बेरी, सियालकोट, पाकिस्तान की बेरी शामिल हैं।

Related Articles

Back to top button