भारत सहित कई देशों की अफगान को चेतावनी! जबरन बनी सरकार को नहीं…

काबुल: भारत, जर्मनी, कतर, तुर्की जैसे और कई अन्य देशों ने फिर से दोहराया है कि अफगानिस्तान में जबरन अगर बंदूक के दम पर बनी किसी भी सरकार को वे मान्यता नहीं देंगे। इसके अलावा सभी देशों ने युद्ध संकट में फंसे अफगानिस्तान में हिंसा और हमलों को तत्काल रोकने की अपील भी की है।

दोहा में अफगानिस्तान पर 2 अलग-अलग बैठके की गई है। इन बैठकों के बाद कतर की तरफ से कहा गया कि बैठकों में हिस्सा लेने वाले देशों ने अफगान शांति प्रक्रिया को सर्वोच्च महत्व का मुद्दा मानते हुए इसे तत्काल तेज करने की जरूरत बताई है।

कतरी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि, पहली बैठक 9 अगस्त को हुई थी जिसमें चीन, उज्बेकिस्तान, अमेरिका, पाकिस्तान, ब्रिटेन, कतर, संयुक्त राष्ट्र और यूरोपीय संघ के प्रतिनिधियों ने शिरकत की। जबकि 12 अगस्त को दूसरी बैठक में भारत, जर्मनी, नॉर्वे, कतर, अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र, तजाकिस्तान, तुर्की और तुर्कमेनिस्तान के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

भारत की तरफ से विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव जेपी सिंह बैठक में शामिल हुए। संयुक्त राष्ट्र, यूरोपीय संघ और उत्तर अटलांटिक संधि संगठन ने भी स्पष्ट कहा कि वे भी अफगानिस्तान में जबरन सैन्य संघर्ष के जरिये बनी सरकार को मंजूरी नहीं देंगे।

Related Articles