भोजपुरी फिल्मों पर लगे अश्लीलता के दाग को धोकर एक नई क्रांति लाई ‘संघर्ष’: काजल

0

मोतिहारी: भोजपुरी सिनेमा की सफल अभिनेत्री काजल राघवानी ने कहा कि जिस तरह भोजपुरी सिनेमा के तीसरे दौर की शुरुआत में मनोज तिवारी की फिल्म ‘ससुरा बड़ा पैसावाला’ से एक क्रांति आई थी, उसी तरह फिल्म ‘संघर्ष’ भोजपुरी फिल्मों पर लगे अश्लीलता के दाग को धोकर एक नई क्रांति लाई है। उन्होंने कहा कि फिल्म ‘संघर्ष’ ने अश्लीलता मुक्त भोजपुरी फिल्म का गहरा संदेश दिया है।

काजल फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में मोतिहारी के पायल सिनेमा हॉल पहुंची। उल्लेखनीय है कि ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ मुहीम पर आधारित फिल्म ‘संघर्ष’ में खेसारीलाल यादव के साथ काजल राघवानी, ऋतु सिंह और निझा झा नजर आ रही हैं।

फिल्म के प्रमोशन में काजल के साथ फिल्म भोजपुरी के नायक अवधेश मिश्रा, निर्देशक पराग पाटिल, निर्माता रत्नाकर कुमार और पीआरओ रंजन सिन्हा भी शामिल हुए। फिल्म के बारे में अवधेश मिश्रा ने कहा, “इस फिल्म ने साफ-साफ संकेत दिया है कि दर्शकों के बीच वही फिल्में चलेंगी, जो बगैर अश्लीलता के बनी हो और उसका ‘कंटेंट’ दमदार हो।”

loading...
शेयर करें