वाशिंगटन: कमला हैरिस ने बैरेट की नियुक्ति की स्वीकृति को बताया ‘गैरकानूनी’

वाशिंगटन: अमेरिका में उप राष्ट्रपति पद की दौड़ में डेमोक्रेटिक उम्मीदवार कमला हैरिस ने कहा है कि ‘एमी कोनी बैरेट’ की सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में स्वीकृति एक ‘गैरकानूनी प्रक्रिया’ है।

व्हाइट हाउस में शपथ समारोह

बैरेट ने अमेरिका में आधिकारिक रूप से ‘सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश’ बनने के लिए। लिये जाने वाले दो शपथों में से पहली शपथ सोमवार को व्हाइट हाउस में एक समारोह में ली।

गैरकानूनी प्रक्रिया

बैरेट के शपथ लिये जाने के बाद टि्वटर पर कहा, “आज रिपब्लिकन ने ‘गैरकानूनी प्रक्रिया’ के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश की पुष्टि कर अमेरिकी जनता की इच्छा के विरुद्ध कार्य किया है। हम इसे नहीं भूलेंगे।”इससे पहले सोमवार को अमेरिकी सीनेट ने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में बैरेट के नामांकन को 52-48 मतों से स्वीकृति दी। सुश्री बैरेट ने दिवंगत रूथ बेडर जिंसबर्ग की जगह ली है।

जिंसबर्ग का कैंसर से निधन

जिंसबर्ग का सितंबर में 87 वर्ष की उम्र में कैंसर के कारण निधन हो गया था। और इसके बाद अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट में यह पद रिक्त हो गया था।

यह भी पढ़े:सड़क पर गिरे घायल को कलेक्टर ने पहुंचाया अस्पताल, स्टाफ को दिया नोटिस

यह भी पढ़े:भारत-अमेरिका के विदेश और रक्षा मंत्री करेंगे ‘टू प्लस टू प्लस संवाद’

 

Related Articles