निर्भया की मां ने कहा, मेरी बेटी का नाम ज्‍योति, हमें न्‍याय नहीं मिला

nirbhaya-mother-devi-story-top

नई दिल्‍ली। तीन साल पहले हुए दिल्‍ली गैंगरेप की पीडि़ता की मां ने कहा, ‘मेरी बेटी का नाम ज्‍योति सिंह है और मुझे उसका नाम उजागर करने में जरा भी शर्मिंदगी नहीं है। आपको भी उसका नाम लेना चाहिए।’

इस मामले से जुड़े एक सबसे कम उम्र के आरोपी की रिहाई के खिलाफ भी ज्‍योति की मां आशा देवी और पिता बद्रीनाथ ने लोगों से भावुक अपील की। आरोपी की 21 दिसंबर को रिहाई होने वाली है।

सामूहिक दुष्‍कर्म की शिकार बनी छात्रा की घटना के 13 दिन बाद ही मौत हो गई थी। उसकी मां आशा देवी ने कहा, ‘मैं नहीं जानती  कि वह 16 साल का है या 18 का। मैं केवल यह जानती हूं कि अपराध इतना निर्दयतापूर्ण है तो सजा के लिए आयु की कोई सीमा नहीं होनी चाहिए।’

आशा देवी ने कहा कहा, ‘क्‍या हमें न्‍याय मिला। गैंगरेप की इस घटना की तीसरी बरसी पर कुसूरवार को छोड़ा जा रहा है।’ इस मां की अपील की असर संसद में भी सुनाई दी। बीजेपी सांसद और अभिनेत्री हेमा मालिनी ने कहा कि नाबालिग दोषी को भी वहीं सजा मिलनी चाहिए, जो मामले से जुड़े चार अन्‍य दोषियों को मिली। उन्‍होंने लोकसभा में कहा, ‘उसे किसी भी बाल सुधार गृह में ठीक नहीं किया जा सकता। उसे बालिग की तरह लेते हुए बराबरी की सजा मिलनी चाहिए।’

बता दें कि घटना के वक्‍त आरोपी 18 साल का था। उसे तीन साल के लिए बाल सुधार गृह में रखा गया था। अब वह 21 साल का हो चुका है। बाल सुधार गृह की सजा पूरी हो चुकी है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button