बद्रीनाथ धाम में मौसम ने दिखाए तेवर, 12 साल बाद मई में हुई बर्फबारी

0

देहरादून। बद्रीनाथ धाम में बारह साल बाद मई में खूब बर्फबारी हुई हैं जिससे की वहां पर मौसम ने रूख बदल लिया हैं। उत्तराखंड में बर्फबारी शुरू होने से ठण्ड भी काफी हद तक बढ़ गयी हैं। बद्रीनाथ समेत आसपास के क्षेत्रों में रविवार को जमकर बर्फबारी हुई। अचानक से हुई बर्फ़बारी से वहां के यात्रियों को ठंड से रूबरू होना पड़ रहा हैं। बद्रीनाथ और केदार नाथ में जहां एक और बर्फ़बारी का कहर जारी हैं तो वही दूसरी और गंगोत्री-यमुनोत्री में बारिश भी बरसात से पहले पहाड़ों की परीक्षा लेने लगी है।बद्रीनाथ धाम गौरतलब हैं कि बद्रीनाथ में 12 वर्ष बाद मई में बर्फबारी हुई है। इससे पहले बद्रीनाथ में साल 2006 मई में बर्फ गिरी थी।
बद्रीनाथ धाम के साथ ही हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, रुद्रनाथ सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में रविवार को दिनभर बारिश रही। जबकि दोपहर बाद बर्फबारी शुरु हुई, जो देर शाम तक चलती रही। बद्रीनाथ धाम में बारिश और बर्फबारी होने से ठंड बढ़ गई है। बद्रीनाथ में दर्शन के लिए गये हुए श्रद्धालू भी ठंड के कहर से बचने के लिए अपने कमरों में ही दुबके रहे। चमोली जिले के निचले क्षेत्रों में दिनभर आसमान में बादल छाए रहे। जबकि गोविंदघाट से बदरीनाथ तक सुबह दस बजे से बारिश शुरु हो गई थी। बारिश के चलते बदरीनाथ हाईवे लामबगड़ में खतरनाक बन गया है।

मौसम की गड़बड़ी के कारण केदारनाथ लिए हेली सेवाएं करीब साढ़े तीन घंटे बाधित रहीं। वहीं कुमाऊं के पिथौरागढ़ जिले में जबरदस्त बारिश के कारण मुनस्यारी के एक प्राथमिक विद्यालय समेत दस मकानों में मलबा घुस गया। हालांकि इस सब के बीच चार धाम यात्रा चालू है। बता दे चारों धाम में आसपास की चोटियां बर्फ से लकदक हैं। केदारनाथ में घने कोहरे और बारिश के कारण पूर्वाह्न 11 बजे से दोपहर बाद 2।30 बजे तक हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर सके। मौसम साफ होने पर भी उड़ान संभव हो सकी।

उधर मौसम विभाग ने भी चेतावनी दे दी हैं कि उत्तराखंड में अगले 24 घंटे में मौसम नरम रहेगा, लेकिन मंगलवार से इसमें बदलाव की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक आठ, नौ और दस मई को राज्य में 70 से 80 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलने के साथ ही ओलावृष्टि भी हो सकती है।बिक्रम सिंह, निदेशक (मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून) का कहना है कि आमतौर मई-जून में उत्तर भारत में दक्षिण पूर्व की ओर से आने वाली हवा के कारण मौसम शुष्क रहता है। इस बाद हवा उत्तर पश्चिम की ओर से आ रही है, जिससे मौसम में बदलाव आ रहा है।

loading...
शेयर करें