WEF ने अपनी रिपोर्ट में पाक की अर्थव्यवस्था को भारत से ज्यादा मजबूत बताया

0

नई दिल्ली। लजीज देसी व्यंजनों और योग सत्र की झलक के साथ सोमवार से दावोस में विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की वार्षिक बैठक शुरू होगी। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगे जहा वह भारत को वैश्विक अर्थव्यस्था के लिए वृद्धि इंजन के रूप में पेश कर सकते हैं। डब्ल्यूईएफ की बैठक में शरीक होने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दावोस के लिए रवाना हो चुके हैं। बैठक के दूसरे दिन 23 फरवरी को प्रधानमंत्री मोदी पूरी दुनिया को संबोधित करेंगे। इस बैठक में 60 देशों के प्रमुखों समेत अलग-अलग क्षेत्र से हजारों लोग शामिल हो रहे हैं।

विश्व आर्थिक मंच ने एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें की अभरती अर्थव्यवस्थाओं की सूची है। इसमें भारत को 62वे पायदान पर है। वही पड़ोसी देश पकिस्तान को 47वे स्थान पर रखा गया है। नॉर्वे को सबसे विकसित अर्थव्यवस्था बताया गया। इसके साथ ही उभरती अर्थव्यवस्थाओं में सबसे पहले लिथुआनिया को रखा गया है। विश्व आर्थिक संगठन यह रिपोर्ट प्रति वर्ष बैठक की शुरुआत में जारी करता है जिसमें दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं की स्थिति के साथ-साथ वैश्विक स्तर पर निवेश के उपर्युक्त ठिकानों की सूचि भी शामिल रहती है।

रिपोर्ट की इस सूची में लिविंग स्टैंडर्ड, क्लाइमेट सुरक्षा और देश की भावी पीढ़ियों को कर्ज से बचाने की क्षमता के आधार पर जगह दी जाती है। पिछले साल विश्व आर्थिक मंच की इस रिपोर्ट में जहां भारत को 60वां स्थान दिया गया था वहीं चीन को 15वां और पाकिस्तान को 52वां स्थान दिया गया था।

रिपोर्ट की सूची में लिविंग स्टैंडर्ड, क्लाइमेट सुरक्षा और देश की भावी पीढ़ियो को क़र्ज़ से बचने की क्षमता के आधार पर जगह दी जाती है। पिछले साल विश्क आर्थिक मंच की इस रिपोर्ट में भारत को 60वा स्थान दिया गया था वही पकिस्तान को 52वा और चीन को 15वा स्थान दिया था।

इस वर्ष देशों की रैंकिंग के लिए कुल 103 अर्थव्यवस्थाओं का आकलन किया गया है जहां पहले भाग में 29 विकसित अर्थव्यवस्थाएं और दूसरे भाग में 74 उभरती व्यवस्थाएं शामिल हैं।

 

loading...
शेयर करें