पश्चिम बंगाल: TMC और CPI(M) कार्यकर्ताओं के बीच खूनी जंग, चली गोलियां, फेंके बम, 3 की मौत

0

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) के कार्यकर्ताओं  में खूनी जंग हो गई। इस हिंसक लड़ाई में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि 15 लोग जख्मी हो गये हैं। मृतकों में दो की पहचान टीएमसी सदस्य (नासिर हल्दर और कुद्दुस गनी) के रूप में हुई, जबकि तीसरे मृतक की शिनाख्त माकपा सदस्य मुज्जफर अहमद के तौर पर की गई।

क्या था पूरा मामला?

मामला नॉर्थ 24 परगना का है, जहां मंगलवार की रात पंचायत बोर्ड के गठन की प्रक्रिया को अस्थाई रूप से स्थगित कर दिया गया। इसके बाद तराबेरिया, मोरीचा, बोडाई ग्राम पंचायत के इलाकों सीपीआई और टीएमसी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गये। कुछ ही देर में विवाद इतान बढ़ गया कि यह खूनी खेल में बदल गया।

दोनों गुटों में चली गोलियां और बम?

पुलिस सूत्र के अनुसार दोनों ही तरफ के कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे के ऊपर देसी बम से हमल किया और गोली चलाई। इस दौरान दोनों ही गुटों ने जमकर तोड़फोड़ की और पार्टी कार्यालय में भी आग लगा दी गई। वहीं आसपास के तमाम वाहनों को फूंक दिया गया और घर में तोड़फोड़ की गई।

पुलिस ने 10 आरोपियों को किया गिरफ्तार

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि अब तक मामले में 10 लोगों को गिरफ्तारी की गई है, साथ ही पुलिस लगातार अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। पुलिस को बड़ी संख्या में देसी बम भी मिले हैं। घटना के मद्देनजर अमदंगा की तीनों ग्राम पंचायतों (ताराबेरिया, मोरिचा और बोदाई) में बोर्ड का गठन फिलहाल टाल दिया गया है।

वामदल और भाजपा जानबूझकर कर रही हिंसा- तृणमूल

घटना के बाद ममता सरकार में मंत्री ज्योतिप्रियो मलिक ने मृतक के परिवार से मुलाकात की है और उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है। टीएमसी ने दावा किया है कि सीपीएम भाजपा की मदद से जानबूझकर हिंसा की घटनाओं को अंजाम दे रही है। सीपीएम नेताओं ने इस हिंसा की पहले से योजना बनाई थी, आखिर कहां से इतने सारे बम और हथियार आए।

बंगाल में सबसे बड़ा आपाताकाल- सीताराम येचुरी

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने टीएमसी के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि इसमे कोई संदेह नहीं है कि हमारा देश आपातकाल से गुजर रहा है, लेकिन मौजूदा समय में सबसे बड़ा आपातकाल बंगाल में है, यहां लोकतंत्र की खुलेआम हत्या हो रही है। अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए ममता सरकार हम पर फर्जी आरोप मढ़ रही है।

loading...
शेयर करें