West Bengal Election Result: नंदीग्राम में सीट में बड़ा उलट फेर, ममता ने कहा- जाऊंगी कोर्ट

पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम सीट में ममता बनर्जी और शुभेंदु अधिकारी के बीच अंत तक चुनावी खेल बदलता रहा, लेकिन बाद मेंं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नंदीग्राम सीट से हारना पड़ा

कोलकाता: पश्चिम बंगाल (West Bengal) लगभग तीसरी बार तृणमूल कांग्रेस पार्टी की सरकार बनना लगभग तय हो गया है। बंगाल में विधानसभा चुनाव के रुझानों में तृणमूल कांग्रेस को बढ़त मिल रही है। तृणमूल कांग्रेस (TMC) 202 सीटों पर आगे चल रही है।  बंगाल के नंदीग्राम सीट में ममता बनर्जी और शुभेंदु अधिकारी के बीच अंत तक चुनावी खेल बदलता रहा, लेकिन बाद मेंं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नंदीग्राम सीट से हारना पड़ा। जिसे लेकर ममता बनर्जी ने कहा कि, मैं जनादेश को स्वीकार करती हूं। लेकिन मैं न्यायालय जाऊंगी क्योंकि मुझे जानकारी है कि परिणामों की घोषणा के बाद कुछ हेरफेर की गई और मैं उसका खुलासा करूंगी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बोला, नंदीग्राम के बारे में चिंता मत करो। नंदीग्राम के लोग जो भी जनादेश देंगे, मैं उसे स्वीकार करती हूं। मुझे कोई आपत्ति नहीं है। हमने 221 से अधिक सीटें जीतीं और भाजपा चुनाव हार गई।

वोटों की पुन: गिनती

तृणमूल कांग्रेस (TMC) मुख्य निर्वाचन कार्यालय, पश्चिम बंगाल को पत्र लिखा है, जिसमें नंदीग्राम के वोटों की तत्काल पुन: गिनती की मांग की गई है।

Image

बंगाल BJP अध्यक्ष दिलीप घोष ने चुनाव में हार को लेकर बोला कि, चूक कहां हुई इस पर हम चर्चा करेंगे और आगे बढ़ेंगे। पिछले चुनाव में हमने 3 सीटें जीतीं थी, इस बार हमने 80 के आस-पास सीटें जीतीं हैं। हमने बड़ा लक्ष्य रखा था, उस लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाए। अपने नेतृत्व को, कार्यकर्ताओं को धन्यवाद करता हूं।

इससे पहले खबर आई थी कि ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में चुनाव जीत लिया है। BJP प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी को 1200 वोटों से कड़े मुकाबले के साथ हरा दिया है। फिलहाल अब ममता बनर्जी की रिपोर्ट आ गई है। हालांकि अभी चुनाव आयोग कि तरफ से आधिकारिक ऐलान नहीं हुआ है। जानकारी के मुताबिक BJP प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी 1622 वोटों से चुनाव जीते हैं।

नेताओं का बयान-

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा कि, 5 राज्यों के चुनाव के जो नतीजे आए हैं, वो कांग्रेस के लिए बेहद निराशाजनक हैं। मुख्य बात यह है कि पिछले 2 साल से हमारे पास कोई पूर्णकालिक अध्यक्ष भी नहीं है। इस चुनाव से निराश होने की बजाय गलतियों को दूर करने की दिशा में बढ़ा जाए।

असम (Assam) में अगले मुख्यमंत्री के सवाल पर केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बोला कि, जब चुनाव के बाद हमारा विधानसभा दल गठित होगा तो इस पर सही समय पर निर्णय होगा। हमारे उच्च नेतृत्व के संज्ञान से इन सारे विषयों पर निर्णय लिया जाता है।

यह भी पढ़ेIPL 2021: नए कप्तान के साथ राजस्थान से भिड़ेगी हैदराबाद, कितनी बड़ी होगी चुनौती?

Related Articles