IPL
IPL

Home मिनिस्टर की इस हरकत का क्या होगा महाविकास अघाड़ी पर असर ?

मुंबई : महाराष्ट्र के Home मिनिस्टर और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता अनिल देशमुख ने आज 100 करोड़ रुपये उगाही मामले में CBI जांच के आदेश के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। अब राज्य के नए गृहमंत्री नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी चीफ शरद पवार के करीबी दिलीप वालसे पाटिल होंगे। हाल में जारी अपने बयान में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय ने इसकी घोषणा की है।

मुंबई के एक्स पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने एक लेटर लिख एक्स होम मिनिस्टर अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपये की जबरन वसूली कराने का आरोप लगाया था। इस मामले में आज मुंबई हाईकोर्ट ने CBI जांच के आदेश दिए हैं। इस मामले के उजागर होने के बाद से ही बीजेपी शिव सेना और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी हमलावर थी और होम मिनिस्टर देशमुख का इस्तीफा मांग रही थी। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की दिलीप वालसे पाटिल अब तक श्रम विभाग का काम संभाल रहे थे जिसका एडिशनल चार्ज अब हसन मुशरिफ को दिया गया है।

यह भी पढ़ें : बेतहाशा बढ़ते corona मामलों के बीच महाराष्ट्र में लगे वीकेंड लॉकडाउन में इनको मिलेगी छूट

दिलीप पाटिल 1999 से लेकर 2008 तक अनेकों मंत्रालयों का काम कर चुके हैं। महाराष्ट्र के अंबेगांव इलाके से ताल्लुक रखने वाले दिलीप पाटिल 6 बार विधायक भी रह चुके हैं। आप को बताते चलें की साल 1999 से 2008 के दौरान पाटिल फाइनेंस-मिनिस्टर , एनर्जी-मिनिस्टर , तकनीकी एजुकेशन मंत्री जैसे कई हाईप्रोफाइल पोर्टफोलियो पर भी रह चुके हैं।

नए Home मिनिस्टर ने शरद पवार के असिस्टेंट के तौर पर की थी करियर की शुरुआत

दिलीप पाटिल के पिता दत्तात्रेय वालसे पाटिल कांग्रेस के विधायक थे और शरद पवार के बेहद करीबी दोस्त थे। दिलीप पाटिल जब महाराष्ट्र के एजुकेशन मंत्री थे तब उन्होंने मेडिकल की सीटों में एडमिशन के लिए ट्रांसपेरेंसी लाने के लिए कई अहम बदलाव किए थे।

Related Articles

Back to top button