जब Ratan Tata बीमार कर्मचारी से उसके घर मिलने पहुंचे, 500 करोड़ देकर दिया था उदारता का परिचय

नई दिल्ली: पिछले साल जब कोरोना महामारी के कारण पूरे देश में लॉकडाउन लगा तब देश में सब कुछ ठप्प पड़ गया. कम्पनियां बंद हो गई, धंधा चौपट हो गया. ऐसे दौर में जहां देश बेहद ही संकट की घडी से गुजर रहा था, आमदनी के लगभग हर स्रोत बंद हो चुके थे. रतन टाटा (Ratan  Tata) आगे आये और केंद्र सरकार को मदद के तौर पर करीब 500 करोड़ रूपये पीपीई किट, मास्क और अन्य सामग्री खरीदने के लिए दिए थे।

मेहनती रतन टाटा

रतन टाटा (Ratan Tata) को कौन नहीं जानता देश के सबसे उदार और सम्मानित उद्योगपति माने जाने वाले रतन टाटा ने जब 1991 में टाटा ग्रुप की कमान संभाली तो कंपनी की तरक्की के लिए अपना दिन-रात एक कर दिया. उसी का नतीजा रहा की आज टाटा ग्रुप दुनियाभर में एक बेहतरीन कंपनी के तौर पर जाना जाता है.

सादगी पसंद है रतन टाटा

रतन टाटा (Ratan Tata) अपने जीवन को सादा जीवन उच्च विचार के मूल मंत्र पर जीते है. उन्हें सादगी पसंद माना जाता है. ऐसा कई बार हुआ है जब रतन टाटा का सादगी और इंसानियत वाला चेहरा लोगों के सामने आया है. रतन टाटा अन्य उद्योगपतियों से बिलकुल अलग है और यही उनकी खासियत भी है.

मदद के तौर पर सरकार को दिए 500 करोड़

पिछले साल कोरोना महामारी के दौरान सरकार को 500 करोड़ रुपये मदद के तौर पर देकर रतन टाटा ने अपनी उदारता का परिचय दिया.

बीमार कर्मचारी से मिलने उसके घर गए थे टाटा

अभी हाल ही में उन्होंने ऐसा ही कुछ कर सबकों भाव विभोर कर दिया. दरअसल टाटा ग्रुप की एक कर्मचारी के बीमार होने की सूचना जैसे ही रतन टाटा (Ratan Tata) को मिली, तुरंत ही वो उनसे मिलने पुणे स्थित उनके घर पहुंच गए.

रतन टाटा अपने कर्मचारियों के लिए कितने उदार है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उन्होंने उस कर्मचारी के परिवार का पूरा खर्च और बच्चों की पढाई में सहयोग देने का वादा कर दिया. उनके पुणे जाने की भनक किसी को भी नहीं लगी, मीडिया भी कुछ नहीं जान पाई.

यह भी पढ़ें: प्रदेश में 28,29 जनवरी को कोरोना टीकाकरण की तैयारियां समय से करें सुनिश्चित: CM Yogi

इंस्टाग्राम पर फॉलोअर्स की फेहरिस्त लंबी

टाटा इंस्टाग्राम पर करीब 3.5 मिलियन फॉलोअर हैं. पिछले साल इंस्टा पर जब रतन टाटा ने एक फोटो शेयर की जिसमें वो जमीन पर बैठे हुए थे, तब एक महिला फॉलोअर ने कमेंट करते हुए उन्हें छोटू लिखकर संबोधित किया. इसपर कई अन्य फॉलोअर्स ने उस महिला को ट्रोल करना शुरू कर दिया, लेकिन एक बार फिर रतन टाटा ने दयाभाव का परिचय देते हुए महिला को ट्रोल न करने की बात कही. उन्होंने कहा हर इंसान के अन्दर एक बच्चा होता है, कृपया महिला के साथ अच्छा व्यवहार करें.

पशु प्रेमी है रतन टाटा

इंसान तो इंसान रतन टाटा बहुत बड़े पशु प्रेमी भी है. उन्होंने कुत्तों के लिए टाटा ग्रुप के ऑफिस में एक कैनेल रूम बनाया हुआ है। रतन टाटा आवारा पशुओं के प्रति जागरूकता फ़ैलाने के लिए अपने इन्स्टाग्राम और ट्विटर पेज पर भी अपील करते रहते हैं। केरल में गर्भवती हथिनी की मौत पर उन्होंने एक पोस्ट शेयर करते हुए दुःख व्यक्त किया था और न्याय की मांग भी की थी।

यह भी पढ़ें: फेसबुक पर युवती को ब्लैकमेल करके फोटो अपलोड करने वाला आरोपी गिरफ्तार

Related Articles