बेटी कमांडेंट बनकर आई सामने तो इंस्पेक्टर पिता ने ठोका सैल्यूट, गर्व से चौड़ा हुआ सीना

दीक्षा ने अपनी सफलता का श्रेय अपने पिता को देते हुए कहा कि पिता जी ने उन्हें हमेशा से ITBP ज्वाइन करने के लिए प्रोत्साहित किया था।

मसूरी: एक पिता के लिए इससे ज्यादा गर्व का पल और क्या हो सकता है कि उसकी बेटी उनके सामने उन्ही के विभाग की अधिकारी बन जाए। ऐसा ही एक भावुक करने वाला पल आज मसूरी में भारत तिब्बत सीमा पुलिस यानी आईटीबीपी (ITBP) की पासिंग आउट परेड में देखन को मिला।

मसूरी स्थित अकादमी से 2 महिला असिस्टेंट कमांडेंट पास होकर निकलीं। दो महिला अधिकारिओं में एक अधिकरी का नाम दीक्षा है। दीक्षा के पिता भी ITBP में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं। जैसे ही अकादमी से पास होकर दीक्षा बाहर निकलीं तो उनके पिता इंस्पेक्टर कमलेश कुमार ने उन्हें सैल्यूट ठोका और कहा की आज मुझे बहुत ख़ुशी हुई है। ये वो पल था जब एक पिता का सीना गर्व से चौड़ा हो गया, साथ ही दीक्षा के लिए ये भावुक करने वाला क्षण था।

पिता ने किया बेटी को प्रोत्साहित 

दीक्षा ने अपनी सफलता का श्रेय अपने पिता को देते हुए कहा कि पिता जी ने उन्हें हमेशा से ITBP ज्वाइन करने के लिए प्रोत्साहित किया था। उन्होंने हर तरह की सहायता उपलब्ध कराई। दीक्षा ने बताया ITBP ऊन महिलाओं के लिए बहुत अच्छी फोर्स है। जिन्हें चैलेंज पसंद हैं, वे इस फोर्स को ज्वॉइन करें। दीक्षा ने कहा आज लड़कियां किसी क्षेत्र में कम नहीं हैं। दीक्षा के अलावा प्रृकृति की नियुक्ति भी ITBP में असिस्टेंट कमांडेंट के पद पर हुई है।

आपको बता दें कई महीनों की कठिन प्रशिक्षण पूरा करने के बाद 53 कैडेट्स दीक्षांत परेड में शपथ लेकर बतौर अधिकारी आईटीबीपी की मुख्यधारा में शामिल हुए। पासिंग आउट परेड में आईटीबीपी के डायरेक्टर जनरल के साथ कई अधिकारी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: Big Boss OTT की शुरूआत आज से, Karan Johar करेंगे होस्ट

Related Articles