जब मां ने कहा बच्चा हमारा नहीं लगता, क्यों न इसका DNA Test करवाया जाए

बच्चे के पैदा होने के पाँच साल बाद एक दिन अचानक माँ को एहसास हुआ कि यह बच्चा हमारा नहीं लगता, क्यों न इसका DNA Test करवाया जाए।शाम को उसका पति थका हारा ड्यूटी से घर वापस आया तो उसने अपना संदेह व्यक्त किया कि देखो यह बच्चा बड़ा विचित्र व्यवहार करता है, इसका चलना, खाना, पीना और सोना, इत्यादि हमारे से बहुत भिन्न है। मुझे नहीं लगता कि यह बच्चा हमारा है। चलो इसका DNA Test करवाते हैं।

पति: डार्लिंग! तुम्हें यह बात आज अचानक पाँच साल बाद क्यों याद आ गई? यह तो तुम मुझसे पाँच साल पहले भी पूछ सकती थी…!

पत्नी (आश्चर्य चकित होते हुए) : क्या मतलब है तुम्हारा? तुम कहना क्या चाहते हो?🤔🤔🤔🤔

पति : याद करो अस्पताल की वह पहली रात जब हमारा बच्चा पैदा हुआ था और कुछ ही देर बाद उसने पैम्पर खराब कर दिया था । तब तुम्हीं ने तो मुझसे कहा था कि “अजी सुनिए! प्लीज़ बेबी को चेंज तो कर दो ।”

तब मैंने बड़ा हैरान होकर तुम्हारी ओर देखा था तो तुमने ही कहा था कि “तुम्हारे प्यार की खातिर मैंने 9 महीने इस बच्चे को अपनी कोख में रखा है, और अब जबकि मैं हिल भी नहीं सकती तो क्या आप यह छोटा सा काम भी नहीं कर सकते.”..???

तब मैं अपने बच्चे को उठाकर दूसरे वार्ड में गया था, वहाँ अपने गंदे बच्चे को चेंज करके दूसरे साफ बच्चे को उठाकर तुम्हारे पास लाकर सुला दिया था…

मोरल ऑफ द स्टोरी:- पति को काम बताते समय अपनी मातृभाषा का उपयोग करें, अंग्रेजी का भेजा इस्तेमाल करेंगे तो ऐसा ही होगा।…..!!

पहली बार कोई पत्नी कोमा में है वरना हमेशा पति ही होते है!!!

Related Articles