ATM से पैसा निकालते समय इस तरह कार्ड क्लोनिंग से रहें सावधान वरना हो जाएगा बड़ा नुकसान

हाल ही में गाजियाबाद के वैशाली इलाके में एक जाने-माने बैंक के एटीएम पर कार्ड क्लोनिंग का मामला सामने आया है। हुआ यूं कि एक डॉक्टर बैंक एटीएम पर पैसे निकालने के लिए गए थे। लेनदेन की पूरी प्रक्रिया सफलतापूर्वक होने के बाद भी जब एटीएम मशीन से पैसे नहीं निकले, तो डॉक्टर को शक हुआ और उन्होंने मशीन को ध्यान से देखना शुरू किया। उन्होंने पाया कि पिन नंबर टाइप करने की जगह के ऊपर टेप से एक प्लेट चिपकाई हुई थी। प्लेट को निकालने पर पचा चला कि उसमें एक कैमरा, एक एसडी कार्ड और एक बैटरी लगी थी।

शातिर ठग इस तरह की डिवाइस के माध्यम से ग्राहकों के एटीएम कार्ड को क्लोन करते हैं और फिर उनका अकाउंट खाली कर देते हैं। इस तरह की ठगी से बचने के लिए ग्राहकों को एटीएम से निकासी करते समय काफी सावधानी बरतने की जरूरत है। साइबर एक्सपर्ट प्रिया सांखला ने कार्ड क्लोनिंग से बचाव के लिए कई सारे टिप्स बताए हैं। आइए जानते हैं कि वे क्या हैं।

1. कार्डधारक को हमेशा एटीएम मशीन से नकदी निकासी करते समय मशीन में कार्ड डालने के स्थान की जांच कर लेनी चाहिए। ठग उस जगह पर क्लोनिंग डिवाइस लगा देते हैं और व्यक्ति के एटीएम कार्ड को स्केन कर लेते हैं।

2. कार्डधारक को अपना पिन नंबर दर्ज करने से पहले कीपैड भी चेक कर लेना चाहिए।

3. कार्डधारक को अपने पिन दर्ज करते समय उंगलियों को कैमरे की नजर से बचाकर रखना चाहिए या दूसरे हाथ से कीपैड को कवर कर लेना चाहिए।

4. कार्डधारक को मैग्नेटिक कार्ड के स्थान पर ईएमवी चिप आधारित कार्ड का उपयोग करना चाहिए। इससे अगर कार्ड स्केन या क्लोन होगा, तो ठग को एन्क्रिप्टेड सूचना प्राप्त होगी, क्योंकि ईएमवी कार्ड्स में माइक्रोचिप्स होती हैं।

5. कार्डधारक को दुकान, होटल या रेस्त्रां पर अपना कार्ड स्वाइप करने से पहले पीओएस मशीन (POS machine) को चेक कर लेना चाहिए। जांच लें कि मशीन कौनसे बैंक की है। मशीन के बिल को देखकर भी पीओएस मशीन की कंपनी का पता लगाया जा सकता है। इसके अलावा स्वाइप एरिया और कीपैड की भी जांच कर लें।

6. कार्डधारक को जहां तक संभव हो सके वहां तक सार्वजनिक स्थान पर स्थित एटीएम या जिस एटीएम पर गार्ड मौजूद हो, उसका ही प्रयोग करना चाहिए।

ठगी होने पर करें यह काम

अगर बैंक या मशीन की तरफ से लेनदेन सफल हो गया है और आपको पैसा नहीं मिला है, तो तुरंत बैंक में कॉल करना चाहिए। अगर कोई तकनीकी खामी है, तो बैंक द्वारा 24 से 48 घंटे में पैसा वापस अकाउंट में डाल दिया जाता है। वहीं, अगर तकनीकी खामी नहीं है, तो बैंककर्मी या पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर जायजा लिया जाता है। ऐसी स्थिति में यूजर को बैंककर्मी या पुलिस के आने तक वहीं रहना चाहिए। बैंक द्वारा भी बता दिया जाता है कि मशीन से पैसे क्यों नहीं निकल रहे हैं।

Related Articles