कोहली और तेंदुलकर में महान कौन, खुद करें फैसला

0

तेंदुलकर ने साल 1989 में डेब्यू किया था। तब क्रिकेट में संसाधन भी खिलाड़ियों को उतने मुहैया नहीं होते थे जितने अब हैं। तब भी तेंदुलकर ने हर संभव रिकॉर्ड अपने नाम किया है। अब इस आधुनिक दौर में क्रिकेट की परिभाषा ही कुछ और है। यहां खिलाड़ियों को अब अगर जरा सी भी कोई परेशानी होती है तो वो तुरंत ठीक हो जाती है।

also read: करार बचाने के चक्कर में NIKE ने तुरंत बदल दी भारतीय टीम की जर्सी

बेशक आज के खिलाड़ी भी बहुत टैलेंटेड हैं। मगर कभी भी दो खिलाड़ियों की तुलना आपस में करना जायज नहीं है क्योंकि समय कभी भी एक जैसा नहीं होता है। जिन संसाधन में कोहली टीम के लिए नए कारनामे कर रहे हैं, वो संसाधन या समय कभी तेंदुलकर के पास नहीं था। या जो चीजें पहले के समय में तेंदुलकर के पक्ष में थी वो आज कोहली के पास नहीं हैं।

loading...
1
2
3
4
शेयर करें