केंद्र सरकार ने बताया दंगों के दौरान क्यों बंद करना पड़ता है इंटरनेट?

केंद्र सरकार ने बुधवार को कहा कि तनाव एवं दंगों के दौरान आपातस्थिति में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए अधिकारी इंटरनेट को बंद कर देते है।

नई दिल्ली: आप लोगों ने अक्सर देखा होगा कि जब भी देश मे कहीं भी किसी तरह का दंगा फसाद होता है, तो प्रशासन द्वारा वहां की इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है। इसको लेकर संसद में आज केंद्र सरकार ने बताया है की आखिर क्यों इस आपातस्थिति में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी जाती है। इस पर गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने पूरी जानकारी दी है।

राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा ऐसे हालात में साइबर स्पेस द्वारा कई ऐसी अफवाह और जानकारी शेयर की जाती है जिससे समाज में माहौल और ज़्यादा बिगड़ सकता है। उन्होंने ने कहा साइबर स्पेस द्वारा कई चुनौतियां उत्पन्न की जा रही हैं, साथ ही कहा, साइबर स्पेस में जानकारी बहुत तेज़ फैलती है जिससे इसका दुरूपयोग करने की आशंका ज़्यादा होती है।

ऐसी आपात स्तिथि में इंटरनेट सेवा राज्य और केंद्र शासित प्रदेशो के अधिकारी दूरसंचार विभाग द्वारा इस रोक लगाते है जिससे समाज में कोई भी ऐसी चीज़ न फैलने पाए जिससे माहौल और ज़्यादा ख़राब होने का खतरा होता है। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि इंटरनेट बंद किए जाने के बारे में उनके मंत्रालय द्वारा केंद्रीकृत आंकड़े नहीं रखे जाते है।

य भी पढ़े: Ind vs Eng: लक्ष्मण ने कहा, ‘टी-20 विश्व कप के मद्देनजर पंत को लगातार मिले मौका’

Related Articles