कुवैत में भारतीय IIT इंजीनियरों की नौकरी खतरे में क्यों है ?

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने देश में प्रीमियर इंजीनियरिंग संस्थानों की एक सूची कुवैत को भेजी है, जहां कई भारतीय एआइआइटी इंजीनियरों पर नौकरी खोने का खरा बना हुआ है. दरअसल गल्फ देश ने फैसला किया है कि वह केवल उन इंजीनियरों को मान्यता देगा जिनकी डिग्री एनबीए सेमान्यता प्राप्त होगी.

कुवैत की एक सरकारी संस्था ने पिछले साल एक सर्कुलर जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि जब तक कुवैत इंजीनियर्स सोसाइटी से अनापत्ति (no-objection) प्रमाण पत्र प्राप्त नहीं किया जाता है, तब तक वे श्रम विभाग को इंजीनियरों को काम करने की अनुमति नहीं देंगे. भारत के लिए इंजीनियरों को केवल तभी अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी किया जाना था, जब पाठ्यक्रम को राष्ट्रीय एनबीए द्वारा मान्यता दी गई हो. मानव संसाधन विकास मंत्रालय तब से इस बारे में कुवैत में काम कर रहे भारतीय इंजीनियरों से जानकारी प्राप्त कर रहा है.

 

Related Articles