आखिर क्योंं इतना अहम है पठानकोट?

CXrmZWrUAAATs7eचंडीगढ़। पंजाब के पठानकोट एयरफोर्स स्‍टेशन पर हुए आतंकी हमले में शामिल सभी आतंकियों को मार गिराया गया है। फायरिंग भी अब रुक चुकी है लेकिन अभी भी सेना का सर्च ऑपरेशन जारी है। आपको बता दें कि पठानकोट से पाकिस्‍तान के बॉर्डर की दूरी महज 30 किमी है। वहीं पठानकोट से राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्ली करीब साढ़े चार सौ किमी है। अब आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि अगर आतंकी पाकिस्‍तान से घुसकर पठानकोट एयरफोर्स स्‍टेशन को निशाना बना सकते हैं, तो दिल्‍ली तक पहुंचना शायद उनके लिए बड़ी बात नहीं।

ये भी पढ़ें- #Pathankot एयरफोर्स स्टेशन पर आतंकी हमला, चारों आतंकी ढेर, द…

छह महीने में हुआ दूसरा बड़ा हमला

यह छह महीने में पंजाब में दूसरा बड़ा आतंकी हमला है। इससे पहले 27 जुलाई 2015 को गुरदासपुर में आतंकी हमला हुआ था। तब भी आतंकी पाकिस्तान के रास्ते ही आए थे। ये दीनानगर थाने में घुस गए थे और थाने के बगल वाली इमारत में छुपकर फायरिंग करते रहे थे। यह मुठभेड़ 12 घंटे चली थी। इसमें गुरदासपुर एसपी शहीद हो गए थे।

ये भी पढ़ें- सेना की वर्दी में घुसे आतंकी, हो सकता था बड़ा नुकसान…

अलर्ट के बाद भी सुरक्षा में सेंध

खुफिया एजेंसियों ने नए साल पर आतंकी हमले की चेतावनी दी थी। सेना ने कहा था कि दीनानगर जैसा हमला हो सकता है। 31 दिसंबर की शाम इन्हीं आतंकियों में से कुछ ने गुरदासपुर एसपी, उनके दोस्त और कुक को अगवा कर लिया था। उसी रात एक शख्स का कत्ल भी किया गया। इसलिए इसे सुरक्षा में बड़ी सेंध कहा जा रहा है।

क्‍यों इतना अहम है पठानकोट?

पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन भारतीय सीमा के पास है। यहां पर देश के बड़े हथियार रखे जाते हैं। युद्ध की स्थिति में पूरी रणनीति को यहीं से ही अंजाम दिया जाता है। 1965 और 1971 की लड़ाई में भी इस एयरफोर्स स्टेशन ने बड़ी भूमिका निभाई थी। मिग-21 लड़ाकू विमानों के लिए यह बेस स्टेशन है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button