नाइजीरिया में आखिर क्यों फैली अशांति, पढ़े क्यों हो रहे प्रदर्शन

स्पेशल ऐंटी-रॉबरी स्क्वॉड (SARS) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। पुलिस की इस यूनिट के खिलाफ लंबे वक्त से हत्या, यातना, जबरन वसूली और अन्य अत्याचार का आरोपी है उसे समाप्त करने की मांग कर रहे हैं।

 

नाइजीरिया : नाइजीरिया में पुलिस की बर्बरता के खिलाफ चल रहे आंदोलन में मंगलवार को गुसाई भीड़ ने दो जेलों पर हमला बोल दिया जिसमे 2000 कैदी फरार हो गए थे। आखिर ऐसा क्या हुआ जो इतने बड़ा प्रदर्शन के साथ जेलों पर हमला हुआ। नाइजीरियन लोगो का आरोप है कि पुलिस की बर्बरता के खिलाफ यह आंदोलन चल रहा हैं। ये स्पेशल ऐंटी-रॉबरी स्क्वॉड (SARS) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। पुलिस की इस यूनिट के खिलाफ लंबे वक्त से हत्या, यातना, जबरन वसूली और अन्य अत्याचार का आरोपी है उसे समाप्त करने की मांग कर रहे हैं।

कबसे फैली अशांति

नाइजीरिया में स्पेशल ऐंटी-रॉबरी स्क्वॉड (SARS) के खिलाफ 8 अक्टूबर से विरोध प्रदर्शन चल रहा था, जेल तोड़ने की घटना एंडसार्स (EndSARS) के विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए एक बहाना तैयार किया गया। SARS पर हत्या, यातना, जबरन वसूली और अन्य अत्याचार का आरोप है। इसलिए ये प्रदर्शनकारी पुलिस सुधार की मांग कर रहे हैं और उसे समाप्त करने की मांग कर रहे हैं।

कब हुई घटना

नाइजीरिया के बेनिन शहर में गुसाए प्रदर्शनकारियों ने 19 अक्टूबर की सुबह दो जेलों पर हमला बोल दिया जिसके बाद करीब दो हजार कैदी फरार हो गए हैं। सोमवार सुबह जेल तोड़ने की घटना के बाद इडो राज्य सरकार के सचिव ओसारोडियोन ओगी ने एक बयान में सोमवार को शाम 4:00 बजे से 24 घंटे का कर्फ्यू लागू करने की घोषणा की और प्रदर्शन को ग़ैरक़ानूनी बताया। एक वीडियो क्लिप में अपराधी को शहर की जेल में घुसते हुए और क़ैदियों को निकालते हुए देखा जा सकता है।

अपराधियों ने प्रदर्शनकारियों पर हमला बोला

लियो ने बताया राजधानी अबूजा में हो रहे प्रदर्शन को इसलिए रोकना पड़ा क्योंकि हथियारों से लैस अपराधी शहर में निजी जीपों में घूम रहे थे। अपराधियों ने प्रदर्शनकारियों पर हमला बोल दिया। अपराधियों ने उनकी कारों में आग लगा दी “जबकि पुलिस भी प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए आंसू गैसे के गोले दागे और गोलियां चलाई”।

ये भी पढ़े : खूबसूरत पहाड़ियों से फिर उठायें नज़ारों का लुफ्त, कालका-शिमला के बीच रेल सेवा शुरू

क्या है वजह

ये घटनाक्रम दो महीने पहले सेना द्वारा देश में शांति और सुरक्षा में खलल डालने वाले बयान की वजह से हुआ हैं। सेना द्वारा घोषित किए गए दो महीने के सैन्य अभ्यास में जारी बयान करने के बाद दो दिन बाद कई लोगो ने कहा कि प्रदर्शनकारियों के लिए ये ख़तरे की घंटी जैसा है। नाइजीरिया में सोशल मीडिया पर कई वीडियो और तस्वीर वायरल हो रही हैं, जिसे #EndSARS के साथ साझा किया गया। अंतरराष्ट्रीय एकजुटता के साथ जन आंदोलन में विरोध को फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

ये भी पढ़े : गौहर खान बन सकती है ‘दरबार’ परिवार की बहू, इसी साल हो सकती है ‘जैद’ से शादी

स्वाट का गठन

नाइजीरियाई लोगों की मांग की प्रतिक्रिया में “SARS को समाप्त करने की घोषणा की थी। 11 अक्टूबर को पुलिस महानिरीक्षक ने बयान में कहा कि “अब स्पेशल एंटी-रॉबरी स्कायड के सभी अधिकारियों और कर्मियों को तत्काल प्रभाव से फिर से तैनात किया जा रहा है।” दो दिन बाद, स्पेशल वीपन्स एंड टैक्टिक्स (स्वाट) इकाई के गठन की घोषणा की गई।

Related Articles