94 वर्षीय पति के सामने पत्नी की हत्या, 15 दिन पहले ही नौकरी पर लगा था आरोपी गार्ड, हुए कई खुलासे

दक्षिण दिल्ली के पॉश इलाके सफदरजंग एंक्लेव इलाके में विदेश मंत्रालय के रिटायर अधिकारी की बुजुर्ग पत्नी की हत्या कर लूटपाट करने का मामला सामने आया है। आरोपियों ने रिटायर अधिकारी के हाथ-पैर बांध दिए थे और पिटाई करने से वह बेहोश हो गए थे। बदमाश घर सें लाखों रुपये की ज्वेलरी व नकदी ले गए। सीसीटीवी फुटेज में बिल्डिंग का सिक्योरिटी गार्ड राजेश अपने तीन साथियों के साथ बिल्डिंग से निकलता हुआ दिखाई दे रहा था। दक्षिण-पश्चिमी जिला डीसीपी देवेंद्र आर्या ने बताया कि सफदरजंग एंक्लेव थाना पुलिस ने राजेश व उसके तीन साथियों को नेपाल बॉर्डर से पकड़ लिया है और सफदरजंग एंक्लेव थानाध्यक्ष शिवराज बिष्ट की टीम उन्हें दिल्ली ला रही है।

दक्षिण-पश्चिमी जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार बलदेव राज चावला(94) पत्नी कांता चावला (88) के साथ ए1/252, अपर ग्राउंड फ्लोर पर रहते हैं। वह विदेश मंत्रालय में सहायक के पद से रिटायर हुए थे। पड़ोसियों का कहना है कि उनके दो बेटे थे और दोनों बेटों की मौत हो चुकी है। दोनों बेटों की बहुएं व पोते अमेरिका में रहते हैं। बलदेव राज शनिवार रात करीब आठ बजे पत्नी के साथ टीवी पर रामायण देख रहे थे। तभी सिक्योरिटी गार्ड राजेश ने डोरबेल बजाई।

कांता चावला ने डायनिंग रूम का दरवाजा खोला तो राजेश व उसके साथियों ने उनको काबू कर लिया। आरोपियों ने उनके साथ मारपीट की और गले में चाकू मार दिया। वृद्धा लहूलुहान होकर वहीं गिर पड़ी। इसके बाद आरोपी कमरे में घुस गए। आरोपियों ने बलदेव के साथ मारपीट की और उनके हाथ-पैर बांध दिए। मारपीट करने से बुजुर्ग बेहोश हो गए थे। आरोपियों ने पूरे घर को खंगाला और उसके बाद घर से नकदी व ज्वेलरी लेकर फरार हो गए। पूरे घर का सामान फैला हुआ था।

बुजुर्ग बलदेव को होश आया तो उन्होंने खुद ही अपने हाथ-पैर खोले और पड़ोसी को इसकी जानकारी दी। पड़ोसी ने फोन कर पुलिस को इसकी जानकारी दी। पुलिस ने वृद्धा के शव को पोस्टमार्टम के लिए रखवा दिया है। बिल्डिंग में कोई सीसीटीवी कैमरे नहीं है। पुलिस ने पास में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला तो राजेश अपने तीन साथियों के साथ निकलता हुआ दिखाई दे रहा है।

15 दिन पहले ही नौकरी पर लगा था
राजेश को बुजुर्ग दंपती के घर में काम करने वाली नौकरानी ने करीब 15 दिन पहले सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी पर रखवाया था। पुलिस को पता लगा कि आरोपी किराए पर गाड़ी लेकर नेपाल भागा है। दिल्ली पुलिस ने यूपी पुलिस को अलर्ट किया और नेपाल बॉर्डर से राजेश व उसके तीन साथी ओम, ज्ञानेन्द्र व प्रमोद को पकड़ लिया।

आरोपी उबर कंपनी की कैब से नेपाल भागे थे
सफदरजंग एंक्लेव में वृद्धा कांता चावला की हत्या व लूटपाट कर उबर कंपनी की कैब से नेपाल भागे थे। सफदरजंग एंक्लेव थाना पुलिस को सीसीटीवी फुटेज व स्थानीय इनपुट्स से ये पता लग गया था कि आरोपियों ने यूपी-13 बीपी 0225 नंबर की उबर कैब बुक कराई है। इसके बाद पुलिस को कैब ड्राइवर व उसका नंबर मिल गया। कैब ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि वह चार आरोपियों को नेपाल-भारत बॉर्डर के पास छोड़कर आया है। आरोपी करीब सप्ताह से लूटपाट की साजिश रच रहे थे। सिक्यूरिटी गार्ड राजेश उर्फ डीमू(22) समेत ज्ञानेन्द्र(22), ओम(18) और प्रमोद(26) चारों आरोपी नेपाल के रहने वाले हैं। नेपाल में एक ही जगह के रहने वाले हैं इसलिए चारों एक-दूसरे को जानते हैं।

दक्षिण-पूर्व जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार सफदरजंग एंक्लेव थानाध्यक्ष शिवराज बिष्ट की देखरेख में इंस्पेक्टर विजय, सफदरजंग चौकी प्रभारी विवेक मलिक, एएसआई सुनील, देवेन्द्र मलिक, सिपाही नेमी व महेश आदि की तीन गाड़ियों में पुलिस टीम नेपाल भारत बॉर्डर भेजी गई। कैब ड्राइवर इनको लेकर शनिवार रात नौ बजे चला था और सुबह चार बजे नेपाल-भारत बॉर्डर पर छोड़ दिया था। दिल्ली पुलिस ने लखीमपुर खीरी पुलिस को अलर्ट किया। एसएसपी लखीमपुर खीरी से बात की गई। यूपी पुलिस ने बॉर्डर के पास गौरफात्ता इलाके से चारों आरोपियों को पकड़ लिया। दिल्ली पुलिस रविवार शाम को चारों को दिल्ली ले आई है। इनके कब्जे से लूटे गए 55 हजार रुपये, ज्वेलरी व वारदात में इस्तेमाल किया गया चाकू बरामद कर लिया गया है।
आरोपी दिल्ली में गार्ड, चौकीदार व घरेलू नौकर का काम करते थे। राजेश ने ज्ञानेन्द्र के साथ लूटपाट की साजिश रची थी। सभी आरोपी अपने-अपने मालिकों की दौलत के बारे में बात करते रहते थे।

 

 

Related Articles