क्या “पिछड़ा हुआ वायनाड” देगा विकास के नाम पे राहुल गाँधी का साथ

परम्परागत अमेठी सीट के साथ ही अपने राजनीतिक दायरे से हटकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी इस बार केरल के वायनाड से भी चुनावी मैदान में उतरने को तैयार है. वायनाड से आज गुरुवार को नामांकन पत्र दाखिल कर चुके है  राहुल गाँधी. राहुल गांधी के इस चुनावी पैतरे से वायनाड के लोगों में जबर्दस्त उत्साह है ,यह उत्साह लोगो की विकास को लेके आस को भी  दर्शाता है. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि राहुल वायनाड को क्या देंगे?

वायनाड केरल के सबसे पिछड़े जिलों में शुमार किया जाता है. सूबे में पिछले साल आई बाढ़ में वायनाड काफी तबाह हो गया था. केरल के पश्चिमी घाट की पहाड़ियों और घने जंगलों से घिरा वायनाड धान की फसल, मसालों और बेहतरीन किस्म की कॉफी के लिए मशहूर है. इसके अलावा पर्यटन के लिए भी वायनाड काफी मशहूर है.

बाढ़ का तबाही भरा प्रकोप 

एक दौर में वायनाड किसान काफी खुशहाल माने जाते हैं, लेकिन 2018 में आई भीषण बाढ़ ने उनकी कमर तोड़कर रख दी है. यहां के किसान कर्ज और गरीबी से जूझ रहे हैं. बाढ़ ने किसानों के साथ-साथ पर्यटन के क्षेत्र को तगड़ा झटका दिया था, जिससे पर्यटकों की संख्या में भारी कमी आई. इससे वहां के लोगों को भी नुकसान उठाना पड़ा. गरीबी से जूझ रहे किसानों और गरीबों में राहुल गांधी के वायनाड सीट से चुनाव लड़ने के फैसले से विकास की नई उम्मीद जगी है.

केरल के वरिष्ठ पत्रकार हसनुल बन्ना ने आजतक से बातचीत करते हुए बताया कि राहुल गांधी किसानों और गरीबों के जिस तरह से मुद्दे उठा रहे हैं. ऐसे में वायनाड के किसानों को आय के प्रमुख स्रोत की संभावनाएं दिखने लगी हैं. इस तरह से यहां के किसानों की दशा और दिशा में सुधार के कदम उठाए जा सकते हैं. उन्होंने बताया कि इस इलाके में सिंचाई के लिए पानी की कमी है. फसल बेचने के लिए मंडियों की कमी है. लोन को लेकर कई दिक्कतें आती हैं. इसके अलावा खेती के आधुनिक तरीकों की कमी से भी स्थानीय लोगों में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में राहुल गांधी यहां से प्रतिनिधित्व करते हैं तो माना जा रहा है कि इन सारी दिक्कतों से लोगों को राहत मिल सकती है.

हसनुल बन्ना कहते हैं कि वायनाड का इलाका कर्नाटक से जुड़ा हुआ है. यहां के लोगों को अभी अपनी फसल बेचने के लिए कर्नाटक के मैसूर की मंडियों तक जाना पड़ता है. इसके अलावा पर्यटकों के आने-जाने का सबसे आसान रास्ता कर्नाटक से है. कर्नाटक में कांग्रेस गठबंधन की सरकार है, इसका वायनाड के लोगों को फायदा मिल सकता है.

रोजगार बढ़ने की उम्मीद 

बन्ना कहते हैं कि राहुल गांधी ने जिस तरह से न्यूनतम आय योजना (न्याय) का वादा किया है. इससे वादे पर लोगों का भरोसा जगा है, क्योंकि वायनाड लोकसभा क्षेत्र में 80 फीसदी लोग इस दायरे में आते हैं. इसके अलावा बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर के जरिए वायनाड को विकास की पटल पर लाने में राहुल अहम भूमिका अदा कर सकते हैं.

बन्ना कहते हैं कि केरल के शेष शहरों की तुलना में वायनाड में बड़े हॉस्पिटल नहीं है. इसके चलते यहां के लोगों को अपने इलाज के लिए दूसरे इलाकों और जिलों में जाना पड़ता है. राहुल गांधी के आने से इस दिशा में सुधार की उम्मीद जगी है, क्योंकि गांधी परिवार ने रायबरेली और अमेठी में स्वास्थ्य सेवा की दिशा में बेहतर काम किया है. ऐसे में वायनाड को लोगों को भी ऐसी ही उम्मीद नजर आ रही है. कांग्रेस अध्यक्ष के वायनाड लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतरने से यहां रोजगार की अवसर पैदा होने की आस जगी है.

Related Articles