2030 तक प्राइवेट ट्रांसपोर्ट में तीस प्रतिशत electric vehicle शामिल करेंगे: गडकरी

नई दिल्ली : सेंट्रल गवर्नमेंट 2030 तक प्राइवेट कारों की बिक्री में तीस प्रतिशत electric vehicle चाहती है जिससे ट्रांसपोर्ट सेक्टर में कार्बन एमिशन को कम किया जा सके। यह कहना है ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी का जिन्होंने अपने ब्यान में आगे कहा कि कमर्शियल व्हीकल्स के लिए यह टारगेट सत्तर प्रतिशत, टू और थ्री व्हीलर्स के लिए अस्सी प्रतिशत का है।

electric vehicle से घटेगा प्रदूषण

अपने बयान में गडकरी ने बताया कि अगर कारों और टू व्हीलर्स में इलेक्ट्रिक का अनुपात चालीस प्रतिशत और बसों के लिए लगभग सौ प्रतिशत होता है तो इससे देश क्रूड ऑयल की खपत को काफी कम कर सकेगा।उन्होंने आगे कहा”ट्रांसपोर्ट सेक्टर में कार्बन एमिशन को जल्द कम करने और इसे इकोनॉमी और पर्यावरण के लिहाज से बेहतर बनाने की जरूरत है।” उन्होंने कहा कि देश के डिवेलपमेंट में ट्रांसपोर्ट की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इस कड़ी में जानकारी साँझा करते हुए उन्होंने कहा देश ने दुनिया का सबसे अधिक लंबाई वाला रेल नेटवर्क और दूसरा सबसे बड़ा रोड नेटवर्क तैयार किया है जो की हमारे लिए फक्र की बात है।

उन्होंने कहा बड़ी जनसंख्या के लिए प्रति दिन की ट्रांसपोर्ट की जरूरतों को पूरा करने के मकसद से उनकी मिनिस्ट्री मेट्रो रेल, रैपिड रेल ट्रांजिट, मोनो रेल जैसे एफिशिएंट और किफायती ट्रांसपोर्ट सिस्टम तैयार करने पर जोर दे रही है।

यह भी पढ़ें : कोयले पर निर्भर देश के इन राज्यों में हो गई Power Crisis

Related Articles