चुनाव के दौरान नहीं होगी गड़बड़ी, आयोग ने लॉन्च की ‘cVIGIL’ ऐप, वोटर्स कर सकेंगे शिकायत

0

टेक डेस्क। देश में चुनाव के दौरान गड़बड़ी रोकने और आम आदमी द्वारा इसकी आसानी से शिकायत प्राप्त करने के लिए चुनाव आयोग ने ‘cVIGIL’ नाम की मोबाइल ऐप लॉन्च की है। मंगलवार को ऐप को लॉन्च करते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने बताया कि ‘इस ऐप के जरिए चुनावी आचार संहिता के उल्लंघन पर वोटर आसानी से इसकी शिकायत कर सकेंगे। ये ऐप सभी एंड्रॉयड यूजर्स के लिए मौजूद है और इसके लिए स्मार्टफोन में कैमरा और जीपीएस एक्सेस की जरुरत होगी।’

रावत ने बताया कि इस ऐप को आगामी चुनाव, जोकि छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, मिजोरम और राजस्थान में होने वाले है उनमें पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा। इसके बाद लोकसभा चुनावों में इसका व्यापक तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा।

कैसे कर सकते हैं इसका इस्तेमाल?

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने ऐप के बारे में बताते हुए कहा कि ‘ऐप का प्रयोग वोटर्स आचार संहिता के उल्लंघन करने के दौरान कर सकते हैं। ऐप में फोटो या 2 मिनट तक का वीडियो अपलोड किया जा सकता है। ऐप में यूजर्स द्वारा अपलोडिंग होते ही उसकी लोकेशन भी पता चल जाएगी।’ रावत ने बताया कि ‘अपलोड होने के बाद यूजर को एक यूनिक आईडी मिलेगी, जिसके जरिए वे मोबाइल पर ही फॉलोअप ट्रैक कर सकते हैं।’ उन्होंने बताया कि शिकायत करने वाले यूजर की पहचान को गोपनीय रखा जाएगा।

नहीं हो गलत इस्तेमाल

ओपी रावत ने बताया कि ‘पहले से रिकॉर्डेड वीडियो या फोटो को अपलोड करने की ऐप इजाजत नहीं देगा, ताकि ऐप का दुरुपयोग होने से रोका जा सके। इसके अलावा cVIGIL ऐप के जरिए रिकॉर्ड किए गए वीडियो या फोटो भी फोन गैलेरी में सेव नहीं होंगे।’

2 घंटे के भीतर शिकायत पर होगा एक्शन

उप चुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने बताया कि ‘मई में हुए कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान इस ऐप का इस्तेमाल किया गया था और अब आने वाले चुनावों में भी इसका इस्तेमाल किया जाएगा।’ उन्होंने बताया कि ‘शिकायतकर्ता जो भी वीडियो या फोटो भेजा, उसे 5 मिनट के अंदर स्थानीय चुनाव अधिकारी के पास भेज दिया जाएगा। अगर उसकी शिकायत सही होगी तो 100 मिनट के अंदर ही उस समस्या का समाधान कर दिया जाएगा।’

आचार संहिता लागू होने के दौरान ऐप पर कर सकेंगे शिकायत

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने बताया कि ‘जिस राज्य में भी चुनाव होने हैं, वहां आचार संहिता लागू होते ही इस ऐप का इस्तेमाल शुरू किया जा सकता है। चुनाव तारीखों का ऐलान होने के बाद से वोटिंग खत्म होने तक कोई भी व्यक्ति अपनी शिकायत cVIGIL ऐप के जरिए चुनाव आयोग को भेज सकता है।’ ऐप पर आने वाली सभी शिकायतों की जांच कर उन पर उचित कार्रवाई की जाएगी। इससे चुनाव के दौरान होने वाली गड़बड़ियों को रोकने में काफी मदद मिलेगी। उन्होंने बताया कि ‘आचार संहिता के दौरान नेताओं की तरफ से किसी भी तरह के कोई गैरकानूनी दस्तावेज बांटने, भ्रष्टाचार और विवादित बयानों की शिकायत इस ऐप के जरिए कर सकते हैं।’

loading...
शेयर करें