IPL
IPL

क्या Prime minister की डांट के बाद अब सुधर जाएगें नौकरशाह ?

नई दिल्ली : इसमें कोई शक नहीं है कि मोदी सरकार ने भारतीय नौकरशाही को चुस्त दुरुस्त करना शुरू कर दिया है। इसकी शुरूआत तब हुई जब Prime minister नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में अपने धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान भारतीय प्रशासनिक सेवा के ऑफिशल्स को जमकर खरी-खोटी सुनाई थी।

Prime minister ने संसद में लगाई थी फटकार 

पिछले महीने लोकसभा में सिविल सर्वेंट्स के वर्किंग बिहेवियर पर Prime minister ने बेहद तीखी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा था की सब कुछ बाबू ही करेंगे। IAS बन गए मतलब वो फर्टिलाइजर का कारखाना भी चलाएंगे, केमिकल का कारखाना भी चलाएंगे, IAS हो गए तो वो हवाई जहाज भी चलाएंगे। ये कौन-सी बड़ी ताकत बनाकर रख दी हमने? बाबुओं के हाथ में देश देकर हम क्या करने वाले हैं?  यह कोई पहला वाक़िया नहीं था जब Prime minister ने सख्ती दिखाई। इस से  पहले दार्जिलिंग और रंगो के बीच रेलवे के लेटलतीफ काम पर भी प्रधानमंत्री ने नाराजगी जताते हुए कहा था की रेलमंत्रालय उन बाबुओं और विभागों की जवाबदेही तय करे जिन्होंने देश के टैक्सपेयर्स का पैसा बर्बाद किया है।

कई अधिकारियों का जबरन किया गया रिटायरमेंट

सरकार ने 10 मार्च को संसद को बताया था कि फिनांशल ईयर  में फरवरी महीने तक IAS अधिकारियों के खिलाफ करप्शन की 581 शिकायतें मिलींथीं जिसके बाद कई सेंट्रल गवर्नमेंट ऑफिशल्स को वक़्त से पहले पहले रिटायमेंट दे दिया गया था।

यह भी पढ़ें : जानिए कैसे Bahubali ने इस होली लखनऊ को बना दिया है खास

Related Articles

Back to top button