क्या सरकार के डिजिटल इंडिया के सपने सवांरेगा RBI का यह कदम ?

नई दिल्ली : भारत सरकार के डिजिटल इंडिया के सपने को दिशा देने और देश में डिजिटल ट्रांजैक्शन के चलन को बढ़ावा देने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने हाल ही में कुछ ऐसे कदम उठाए हैं जिनके अमल में आने के बाद अपका मोबाइल वॉलेट आपके बैंक अकाउंट  की तरह काम करने लगेगा।

RBI ने वॉलेट की लिमिट को किया दुगना

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मोबाइल वॉलेट्स को अपने कस्टमर्स को RTGS और NEFT के जरिये पैसे ट्रांसफर करने की सुविधा को मंज़ूरी दे दी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें की अबतक यह इलेक्ट्रॉनिक मोबाइल वॉलेट्स पैसे ट्रांसफर करने के लिए UPI का इस्तेमाल करते थे। इस के साथ साथ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मोबाइल वॉलेट्स के लिए इंटरऑपरेटेबिलिटी यानी एक वॉलेट से दूसरे वॉलेट में पैसे ट्रांसफर की फैसिलिटी को भी मैंडेटरी (अनिवार्य) कर दिया है।

यह भी पढ़ें : कोरोना के कहर पर एक्शन में CM Yogi, अफसरों को दिए सख्त निर्देश, क्या लगेगा लॉकडाउन?

इसके अलावा RBI ने मोबाइल वॉलेट की मैक्सिमम बैलेंस लिमिट को भी पहले से दोगुना कर दिया है। यानी अब हर यूजर अपने मोबाइल वॉलेट में 1 लाख रुपये के बजाए 2 लाख तक रुपये रख सकता है। जानकारों की माने तो ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को डिजिटल ट्रांजैक्शन अपनाने और कैश के बजाए इसी से फण्ड ट्रांसफर करने के लिए एन्करेज करने के मकसद से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इस कदम को उठाया है।

यह भी पढ़ें : Flipkart पर चल रही है बम्पर सेल, इन फ़ोन्स के दाम में भारी डिस्काउंट

Related Articles

Back to top button