क्या ट्रम्प का भारत के खिलाफ बड़ बोलापन अमेरिकी चुनाव में उनके लिए परेशानी खड़ा करेगा

अमेरिका: दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश कहे जाने वाले अमेरिका में दो दिनों बाद राष्ट्रपति चुनाव होने वाले हैं। शुक्रवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और दूसरी पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन के बीच तीखी बहस हुई। दोनों एक दूसरे को घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर घेरते नजर आए।

इस वक्त अमेरिका में चुनावी माहौल चल रहा है और दोनो पार्टियां पूरी कोशिश के साथ जनता को भूनाने में लगी हैं। कल दोनों उम्मीदवारों के बीच हुई बहस में डोनाल्ड ट्रम्प ने चीन और रूस पर पर्यावरण मामले में वार करते हुए भारत को भी उसमें घसीट लिया।

अपने बयान में ट्रम्प ने कहा कि चीन, रूस और भारत एक गन्दे देश हैं। उन देशों की हवा साफ नहीं है, बहुत ही प्रदुषित है। कार्बन उत्सर्जन पर बात करते हुए ट्रम्प ने कहा कि उन्हें सफाई पसन्द है, शुद्ध पानी पसन्द हैं जिसके लिए उन्होंने अमेरिका में बहुत कुछ किया है। ट्रम्प के मुताबिक वातावरण के मामले में इस वक्त अमेरिका दुनिया का सबसे साफ देश है।

जलवायु परिवर्तन पर काम करने वाले समूह से अमेरिका को अलग करने वाले ट्रम्प ने कल अपने भाषण में भारत को गन्दा बता दिया। अपने भारत दौरे पर राष्ट्रपति ट्रम्प ने भारत को सबसे प्रगतिशील और साफ देश बताया था तो प्रधानमंत्री मोदी को अपना सबसे अच्छा दोस्त।

अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों की अधिकता है। भारतीय मूल के लोगों को भी अमेरिका में एक बड़ा वोट बैंक माना जाता है। ट्रम्प के इस तरह की बयानबाजी से इन लोगों ने काफी नाराजगी व्यक्त की है जिसका असर दो दिन बाद होने वाले चुनाव पर पड़ सकता है। मुमकिन है कि इस तरह के बयान के बाद डोनाल्ड ट्रम्प के वोट में कमी आने वाली है जो उनके हार की वजह भी बन सकती है।

यह भी पढ़ें: भारत की संस्था को संयुक्त राष्ट्र देगा खिताब, सौर ऊर्जा पहुंचा कर कई गांवो को किया रोशन

Related Articles