IPL
IPL

कोरोना काल में इन खास संदेशों से अपनों को दीजिए Durga Astami की शुभकामनाएं

चैत्र नवरात्र की अष्टमी 20 अप्रैल, मंगलवार को मनाई जा रही है। कोरोना काल में माता की पूजा का तरीका भी बदल गया है। भक्तों को घर में रहकर ही माता की आराधना करने की अपील की गई है।

लखनऊ: चैत्र नवरात्र की अष्टमी 20 अप्रैल, मंगलवार को मनाई जा रही है। कोरोना काल में माता की पूजा का तरीका भी बदल गया है। भक्तों को घर में रहकर ही माता की आराधना करने की अपील की गई है। इसका असर भी साफ दिखाई दे रहा है। मंगलवार सुबह से माता के मंदिरों में बहुत कम भीड़ है। अधिकांश मंदिर भक्तों के लिए बंद है, सिर्फ पंडितों ने पूजा और आरती की है।

Durga Astami शूभ मूहर्त

कहीं कहीं भक्त बाहर से ही माता के दर्शन कर रहे हैं। ऐसे में इंटरनेट मीडिया पर बधाइयों का दौर शुरू चुका है। अक्सर चैत्र नवरात्रि व्रत पारण नवमी तिथि के समाप्त होने के बाद और दशमी तिथि प्रारंभ होने पर किया जाता है। कई लोग अष्टमी पर ही मां दुर्गा के आठवें स्वरूप की पूजा करके तथा कन्याओं को भोजन करवाकर नवरात्रि व्रत पारण करते हैं। निर्णय सिंधु के अनुसार भी चैत्र नवरात्रि का पारण नवमी तिथि समाप्त होने पर किया जाता है। आपको बता दें, चैत्र नवरात्रि पारण तिथी 22 अप्रैल गुरूवार को है। नवमी तिथी

चैत्र नवरात्रि पारण तिथि: – 22 अप्रैल 2021, गुरुवार को है। नवमी प्रारंभ तिथी 21 अप्रैल सुबह 12:43 को है। इसके साथ ही नवमी 22 अप्रैल सुबह 12:43 को समाप्त हो रही है। इन मेसेज से अपने अपने दोस्तो को नवरात्री की बधाइयां दे सकते है।

भेजें यह खास मेसेज

तेरी कृपा से मैया,

हर काम हो गया,

काम तूने किया,

मेरा नाम हो गया।

। दुर्गाष्टमी की शुभकामनाएं।

मां भरती झोली खाली,

मां अम्बे वैष्णों वाली,

मां संकट हरने वाली,

मां विपदा हरने वाली,

मां के सभी भक्तों को,

दुर्गाष्टमी 2021 की शुभकामनाएं

यह भी पढ़ें

Related Articles

Back to top button