ऑनलाइन एजुकेशन की मदद से छात्रों को नहीं देनी होगी महंगी ट्यूशन फीस

0

नई दिल्ली। विश्वविद्यालयों के छात्रों को मौजूदा समय में ट्यूशन की बढ़ी फीस, बजट में कटौती और पूरा कोर्स कवर न कर पाना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है लेकिन ऑनलाइन एजुकेशन ने उनके लिए एक नया रास्ता खोल दिया है। विश्वविद्यालय या स्कूल छात्र इन ऑनलाइन ऐप के माध्यम से अपनी ट्यूशन फीस बचा सकते हैं और जल्द से जल्द अपना सिलेबस पूरा कर सकते हैं।

करियर अन्ना : इस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से छात्र और प्रोफेशनल्स शिक्षा ग्रहण कर अपने कौशल को निखारने व अपने करियर को संवारने में मदद मिलती है। करियर अन्ना ने थोड़े ही समय में 25 हजार से ज्यादा छात्रों और प्रोफेशनल्स के बीच अपनी पहुंच बनाई है।

हैशलर्न : हैशलर्न ने छात्रों के लिए लाइव और फ्री विडियो क्लासेस उपलब्ध कराई है, जहां अच्छे और बेहतरीन शिक्षकों की ओर से पूरा सिलेबस कवर कराया जाता है। यहां किसी भी चैप्टर में उलझने पर वह ट्यूटर्स से तत्काल मदद ले सकते हैं और अपनी सुविधानुसार भारत के सर्वोत्तम प्रकाशकों की किताब से अलग-अलग चैप्टर के नोट्स बना सकते हैं।

बायजू : यह थिंक एंड लर्न प्राइवेट लिमिटेड का लर्निग ऐप है। यह ऐप मुख्य रूप से चौथी क्लास से लेकर बारहवीं क्लास तक के छात्रों को शैक्षिक सामग्री उपलब्ध कराता है।

अनएकेडमी : यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां भारत में ऑनलाइन एजुकेशन ऑफर की जाती है। अनएकेडमी में पढ़ाने वाले ट्यूटर्स स्टूडेंट्स ही है, जिन्होंने या तो कई परीक्षाएं पास की है या फिर उनके पास पढ़ाने का कई सालों का अनुभव है।

उडेमी डॉट कॉम : यह ऑनलाइन लर्निग प्लेटफॉर्म प्रोफेशनल वयस्कों को शिक्षित करने के मकसद से बनाया गया है। उडेमी डॉट कॉम ऑनलाइन कंटेंट की रचना करने वालों की शैक्षिक सामग्री का इस्तेमाल करता है और मुनाफा कमाने के लिए उसकी बिक्री भी करता है।

loading...
शेयर करें