हाय रे गरीबी की मार! हाथ में बच्‍ची लेकर ठेले पर पति का शव खीचती रही महिला  

0

रायपुर। गरीबी का सितम एक महिला पर इस तरह से कहर बनकर टूटा कि उसे एक हाथ में बच्‍ची और ठेले पर अपने पति का शव ढोना पड़ा। यह इंसानियत को शर्मशार करने की घटना सामने आई है राज्य की राजधानी छत्तीसगढ से।बताया जा रहा है कि एम्स हॉस्पिटल में एक मजदूर की मौत होने के बाद घर शव ले जाने के लिए उसकी पत्‍नी को एंबुलेंस तक नहीं मिली। इसके बाद उसे पति का शव ठेले से ले जाना पड़ा।

सौजन्‍य अन्‍य पोर्टल

मिली जानकारी के अनुसार मृतक राजधानी के ही एक कारखाने में काम करता था, जिसके दोनों फेफड़े फेल बताए जा रहे थे। इस बीमारी की पत्‍नी को जानकारी होने के बाद समाज से चंदा इकठ्ठा कर किसी तरह महिला ने एम्स अस्‍पताल में भर्ती कराया। लेकिन हालत में दिन-ब-दिन सुधार नहीं होने के कारण उसकी देर रात मौत हो गई।

इस दुखियारी पर गरीबी तो सितम ढाह रही थी लेकिन सिस्‍टम ने भी इसे नहीं छोड़ा। अस्‍पताल परिसर से अपने मृत पति का शव ले जाने के लिए मधु शर्मा को एम्बुलेंस तक नहीं मिली। आखिरकार थक हार कर वह अपनी 4 साल की छोटी बच्ची को लेकर पति के शव को ठेले पर रखकर ले जाने के लिए मजबूर होना पड़ा। लेकिन जब वह किसी तरह से शव लेकर उस फैक्‍ट्री में पहुंची तो वहां पर भी उसे मदद नहीं मिली बल्‍कि फटकार मिली। इतना ही नहीं फैक्ट्री मालिक ने किसी प्रकार की सहायता देनें से साफ मना कर दिया।

शेयर करें