उन्नाव में लकड़ी के पुल से गिरकर महिला की मौत,डिप्टी सीएम ने नहीं किया वादा पूरा

उत्तर प्रदेश|उन्नाव जिले में सई नदी के ऊपर बने लकड़ी के पुल से गिरकर एक महिला की मौत हो गई है बता दे की इस लकड़ी के पुल की खतरनाक स्थिति के बारे में 14 अगस्त को ही अलर्ट कर दिया था लेकिन सरकार के इस ओर ध्यान नहीं दिए जाने की वजह से एक महिला को अपनी जान गंवानी पड़ी.उन्नाव ज़िले के लकड़ी के पुल की कहानी पिछले शुक्रवार को दिखाई थी. तब उस वक़्त उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने यह भरोसा दिलाया था कि यहां जल्द ही एक अच्छा पुल बना दिया जाएगा, लेकिन मंत्री जी का वादा पूरा नहीं हुआ और पुल से गिरकर महिला की मौत हो गई.

लकड़ी के पुल से गिरकर 52 वर्षीय महिला की मौत
सई नदी पर बने पुल से पानी में गिरकर जिस महिला की मौत हुई है उनका नाम शिव देवी था और वो 52 वर्षीय थीं. महिला गुरुवार शाम 5 बजे घर से खेत देखने निकली थीं. रातभर महिला का पता नहीं चला तो घरवाले ढूंढते रहे. सुबह पता चला कि थोड़ी दूरी पर सई नदी में एक शव तैर रहा है.परिजनों ने जाकर शिनाख़्त की तो पाया कि शिव देवी का ही शव पानी में है.फ़िलहाल पुलिस मौके पर है और पंचनामा करके शव को पोस्टमॉर्टम के लिए ले जा रही है. आईओ राज बहादुर ने बताया कि तहरीर के मुताबिक़ सुबह क़रीब 6 बजे महिला का शव बरामद हुआ है.

14 अगस्त की रिपोर्ट के बाद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने सई नदी पर लकड़ी के पुल का काम शुरू करवाने का वादा किया था लेकिन उस पर अमल नहीं कराया गया और नतीजतन एक महिला को अपनी जान गंवानी पड़ी. रिपोर्ट के बाद केश प्रसाद मौर्य ने कहा था कि पहले पीपा पुल बनाया जाएगा और बारिश के बाद स्थायी पुल का निर्माण कराया जाएगा लेकिन इस काम के शुरू होने का इंतजार खत्म नहीं हुआ और एक महिला की जान इस बदइंतजामी की बलि चढ़ गई.

क्या था एबीपी न्यूज की रिपोर्ट में
रिपोर्ट में साफ दिखाया गया था कि कैसे गांव के लोग लकड़ी के पुल से मुश्किल से सई नदी पार करते हैं और ये कितना खतरनाक है. इसकी रिपोर्टिंग के दौरान एक 80 वर्षीय बुजुर्ग हबीब ने गुजारिश की वो इस पुल को बनवाने के लिए कुछ करें क्योंकि गांव वालों की तो कोई सुनवाई नहीं है.

 

राजधानी लखनऊ से सिर्फ 30 किलोमीटर दूर है पुल
बता दें कि सई नदी पर बना ये लकड़ी का पुल राजधानी लखनऊ से सिर्फ 30 किलोमीटर दूर है लेकिन उत्तर प्रदेश की सरकार यहां की सुध नहीं ले पाई और इसके परिणाम में आज ये हादसा हो गया. ऐसे में सवाल उठता है कि इस घटना के लिए जिम्मेदार कौन है और हमारे अलर्ट के बाद भी पुल बनाने का काम क्यों नहीं शुरु हुआ.

Related Articles