पुलिस लाइन में महिला ने बैरक में फंदा लगाकर, किया सुसाइड, सुसाइड नोट में इनकों ठहराया दोषी

नई दिल्ल्ली: बलिया जिले से एक ऐसी घटना सामने आयी,जो हर किसी हैरान कर दिया बता दे की संयुक्त अभियोजन कार्यालय बलिया में तैनात महिला आरक्षी ने रविवार रात पुलिस लाइन स्थित महिला बैरक में फंदा लगाकर जान दे दी। घटना स्थल से मिले सुसाइड नोट में मृतका ने एक महिला आरक्षी और एक पुरुष आरक्षी को दोषी ठहराया है। मृतका के पिता ने इन दोनों आरक्षियों के खिलाफ मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए कोतवाली पुलिस को नामजद तहरीर दी है।

जौनपुर जिले के बरसठी थाना क्षेत्र के रायपुर निवासी नीतू यादव(22) पुत्री लाल साहब यादव वर्ष 2018 में पुलिस में भर्ती हुईं। जनवरी 2019 में उनकी पहली तैनाती बलिया के पकड़ी थाने में हुई। वहां से जून 2019 में उसका तबादला संयुक्त अभियोजन अधिकारी कार्यालय में हो गया। वह पुलिस लाइन की दो मंजिलें बैरक के ऊपरी तल में दो और महिला आरक्षियों के साथ रहती थीं।
रविवार रात में भोजन करने के बाद तीनों आरक्षी सो गईं। रात में किसी समय नीतू ने बैरक के किचन के बगल के कमरे में पंखे के हुक में रस्सी का फंदा बनाया और लटक गई। सुबह इसकी जानकारी बैरक में सो रही दोनों महिला आरक्षियों को हुई तो उन्होंने तत्काल प्रतिसार प्रभारी को जानकारी दी। आरआई की सूचना पर पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक, सीओ सिटी सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच गए।
एसपी ने घटना स्थल के निरीक्षण के साथ वहां मौजूद महिला आरक्षियों से पूछताछ की। निरीक्षण के दौरान एक सुसाइड नोट मिला। एसपी ने सुसाइड नोट को अपने कब्जे में ले लिया है। दोपहर बाद बलिया पहुंचे आरक्षी के पिता ने दो को नामजद करते हुए कोतवाली पुलिस को तहरीर दी है।पुलिस अधीक्षक देवेंद्र नाथ ने बताया कि प्रतिसार अधिकारी से सूचना मिली कि महिला बैरक में एक महिला आरक्षी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। घटनास्थल से एक सुसाइड नोट मिला है। जिसमें मृतका ने एक पुरुष आरक्षी व एक महिला आरक्षी को दोषी बताया है। जिसकी जांच की जा रही है।

Related Articles