पति की खुशी के लिए पत्‍नी खुद ले आई सौतन

womanचंडीगढ़ हरियाणा के मेवात में एक शख्स ने पढ़ी लिखी महिला से दूसरी शादी सिर्फ इसलिए की ताकि वो पंचायत चुनाव में अपनी विरासत को बचा सके। युवक सरपंच है लेकिन उसकी सीट अब महिला आरक्षित हो गई है। और हरियाणा में अब पंचायत चुनाव लड़ने के लिए आठवीं पास होना जरूरी है।

लिहाजा युवक की पहली पत्नी ने ही उसे दूसरी शादी करने के लिए सहमति दी ताकि गांव का अगला सरपंच भी इसी घर का हो। हरियाणा के सिंगार गांव की जाहिरा और साजिदा हनीफ की पहली और दूसरी बीवी है। जिनमें ना तो कोई मतभेद और ना ही कोई मनभेद। दोनों घर के सारे काम मिलजुल कर करती है क्य़ोंकि इनकी खुशी के पीछे है इनके पति का सियासी कैरियर।

हनीफ सिंगार गांव के सरपंच हैं, लेकिन सरकार के एक नए फैसले से इनकी अगली दावेदारी पर संकट के बादल आ गए हैं। क्योंकि इस बार ये सीट महिला आरक्षित है और सरकार ने चुनाव लड़ने के लिए आंठवी पास होना जरूरी कर दिया है। लेकिन इनके घर की कोई महिला आंठवी पास नहीं है ताकि चुनाव में खड़ी होकर हनीफ की सियासत को आगे बढ़ा सके। ऐसे में हनीफ की पहली पत्नी जाहिरा ने पति के कैरियर की चिंता की और उसे पढ़ी लिखी महिला से दूसरे शादी करने के लिए हरी झंडी दे दी। ताकि सरपंच का पद उनके अधीन ही हो। कोई बाहरी उसपर कब्जा ना कर ले। साजिदा की उम्र 31 साल है और उसे भी अब जाहिरा और हनीफ का पूरा साथ मिल रहा है।पढ़ी लिखी साजिदा भी नई जिम्मेदारी निभाने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

 

(न्‍यूज 24 से साभार)

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button