भाजपा विधायक पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला के पिता की जेल में हुई मौत

उन्नाव। बीते दिन जिस महिला ने लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश करते हुए उन्नाव के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप के गंभीर आरोप लगाए थे, सोमवार को उसी महिला के पिता की उन्नाव जेल में संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। वह उन्नाव जिला जेल में बंद थे। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डीएम रवि कुमार एनजी से मामले की पूरी रिपोर्ट मांगी थी।

मिली जानकारी के अनुसार, उन्नाव में करीब पांच दिन पहले विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई और उसके गुर्गे किशोरी के पिता पर न्यायलय में लंबित चल रहे मुकदमे को वापस लेने का दबाव बना रहे थे लेकिन जब उन्होंने ऐसा करने से इनकार किया आरोपियों ने उन्हें पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था।

इसके बाद जब पीड़िता के पिता संबंधित थाने में मामला दर्ज कराने पहुंचे तो पुलिस ने उल्टा उनके खिलाफ की मुकदमा दर्ज कर दिया और उन्हें जेल भेज दिया। इस मामले के विरोध में किशोरी और उसका परिवार रविवार को मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह करने के लिए पहुंचा।

यह भी पढ़ें: भाजपा विधायक पर लगा रेप का आरोप, पीड़िता ने सीएम आवास के बाहर करना चाहा आत्मदाह

परिवार के लोगों का आरोप था कि पुलिस ने विधायक के दबाव में उसका इलाज भी सही से नहीं होने दिया। इतना ही नहीं, मेडिकल जांच में भी दबाव बनाया गया।

उन्नाव जेल में बंद किशोरी के पिता की कल रात अचानक हालत बिगड़ी। उसके बाद उसे जेल से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां भोर पहर उसकी मौत हो गई। किशोरी के पिता के शरीर पर गंभीर चोट होने का मामला सामने आया है। किशोरी के पिता की मौत की बाबत जेल अधीक्षक ने उसकी मां के नाम घर पर पत्र भेजा है।

मुख्यमंत्री आवास के पास आत्मदाह की कोशिश करने वाली किशोरी के जेल में बंद पिता की मौत की जानकारी के बाद मुख्यमंत्री ने डीएम रवि कुमार एनजी से मामले की रिपोर्ट लेने के साथ उनको तत्काल माखी गांव पहुंचने को कहा। मुख्यमंत्री का आदेश मिलते ही डीएम गांव के लिए निकल चुके हैं।

बताया जा रहा है कि किशोरी के चाचा और पिता पर मुकदमा दर्ज कराने वाले भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के रिश्तेदार राजकुमार सिंह के पास ही जेल को खाद्यान्न आदि की सप्लाई देने का ठेका है। आरोप लग रहे हैं कि किशोरी के पिता सुरेंद्र सिंह की तबियत बिगड़ने से कुछ घंटे पहले राजकुमार सिंह जेल गए थे और उनकी जेल के अधिकारियों के साथ काफी देर तक गुफ्तगू हुई थी।

Related Articles