महिलाएं विश्वविद्यालय freedom से में पढ़ सकती हैं, कोई बंदिश नहीं : तालिबान

नई दिल्ली : मंत्री अब्दुल बक़ी हक्कानी ने कहा कि नई तालिबान सरकार “आज जो मौजूद है उस पर देश का निर्माण शुरू करेगी” और वह उस घड़ी को बीस साल पीछे नहीं करना चाहती जब आंदोलन सत्ता में था। क्यूंकि यह नया तालिबान है और यहाँ सबको freedom मिलेगी।

तालिबान बनाएगा न्यू अफ़ग़ानिस्तान जहाँ सबको मिलेगी freedom

तालिबान के नए शिक्षा मंत्री ने रविवार को कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं को विश्वविद्यालयों में पढ़ने की अनुमति दी जाएगी क्योंकि देश दशकों के युद्ध के बाद पुनर्निर्माण करना चाहता है, लेकिन लिंग-अलगाव और इस्लामी ड्रेस कोड अनिवार्य होगा। इस कड़ी में अब्दुल ने कहा कि नई तालिबान सरकार “आज जो मौजूद है उस पर देश का निर्माण शुरू करेगी” और वह उस घड़ी को बीस साल पीछे नहीं करना चाहती जब आंदोलन सत्ता में था। लेकिन को एजुकेशन  को समाप्त करने के बारे में वह अडिग रहे। “हमें मिश्रित शिक्षा प्रणाली को समाप्त करने में कोई समस्या नहीं है,” उन्होंने कहा। “लोग मुसलमान हैं और वे इसे स्वीकार करेंगे।”

तालिबान ने कहा है कि महिलाएं शरिया कानून के तहत पढ़ाई और काम कर सकेंगी लेकिन सख्त पोशाक नियम लागू रहेंगे। हक्कानी ने कहा कि सभी छात्राओं के लिए हिजाब जो की धार्मिक घूंघट है अनिवार्य होगा।

यह भी पढ़ें : टेस्ला ने मांगी टैक्स में छूट, ministry बोली “अरे पहले काम तो शुरू करो “

Related Articles