अब नहीं होंगी शराब की दुकानों पर की महिला अधिकारी-कर्मचारियों की तैनाती

नई दिल्ली:भोपाल में शराब की दुकानों पर महिला अधिकारियों-कर्मचारियों की तैनाती को लेकर मध्य प्रदेश सरकार बैकफुट पर आ गई है। आबकारी विभाग ने तय किया है कि अब शराब दुकानों में सिर्फ पुरुष कर्मचारियों से ही काम कराया जाएगा। इसमें भी पॉलिटेक्निक आदि के कर्मचारियों की सेवाएं भी नहीं ली जाएंगी।बता दें कि कांग्रेस ने महिला अधिकारियों-कर्मचारियों की शराब दुकानों पर तैनाती का विरोध करते हुए आंदोलन की चेतावनी दी थी। प्रदेश में ठेकेदारों द्वारा शराब दुकानों का संचालन करने से इन्कार किए जाने के बाद आबकारी विभाग ने दुकानें अपने अधिकारियों-कर्मचारियों से खुलवाई हैं। इसके लिए विभागीय अधिकारियों के साथ होमगार्ड की सेवाएं ली गई हैं।

पर्यवेक्षक का काम महिला अधिकारियों को सौंपा गया। इस पर पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा से लेकर सामाजिक संगठनों ने आपत्ति दर्ज कराते हुए सरकार की नीति पर सवाल उठाए थे। उधर, सागर की एक दुकान में पॉलिटेक्निक के कर्मचारी को तैनात कर दिया गया। जगह-जगह से मिल रही शिकायत और विरोध को देखते हुए सरकार ने नई व्यवस्था बनाई है।

आबकारी आयुक्त राजीव चंद दुबे ने सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर निर्देश दिए हैं कि देसी और विदेशी शराब दुकानों के विभागीय संचालन की स्थिति में विक्रयकर्ता और चौकीदार के रूप में सिर्फ पुरुष कर्मचारियों को ही लगाया जाए। इसमें भी आबकारी विभाग, होमगार्ड या आउटसोर्स एजेंसी से प्राप्त कर्मचारी की सेवाएं ही ली जाएं।

Related Articles

Back to top button