महिलाओं पर बढ़ते अपराध को लेकर छात्राओं ने निकाली रैली

उत्तराखंड। उन्नाव कठुआ रेप केस के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल बना हुआ है। ऐसे में हर जगह लोग आंदोलन, हड़ताल कर रहे हैं। जिससे आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा मिल सके। मासूमों के साथ हुई हरकत के बाद अब उत्तराखंड में भी महिलाएं और लड़कियां खुद को असुरक्षित महसूस करने लगी हैं। हाल ही में हल्द्वानी में महिला डिग्री कॉलेज की छात्राओं ने भी बढ़ते अपराध को लेकर जागरुकता रैली निकाली।

गुस्से में बेटी : रेप से बचेगी बेटी, तभी तो पढ़ेगी बेटी

महिलाओं के साथ हो रहे अपराध के विरोध में शनिवार को हल्द्वानी महिला डिग्री कॉलेज की छात्राओं ने निकाली। इस दौरान महिला हिंसा के खिलाफ रोष जाहिर किया। रैली में छात्राएं रेप से बचेगी बेटी, तभी तो पढ़ेगी बेटी के नारे लगा रही थी।

शनिवार को महिला डिग्री कालेज की छात्राएं एकजुट हुई। इस दौरान वह महिला हिंसा के खिलाफ तख्तियां लिए हुई थी। तख्तियों व पोस्टरों में रेप से बचेगी बेटी, तभी तो पढ़ेगी बेटी, दुष्कर्म के दोषियों को फांसी की सजा दो, बेटियों को बराबरी का अधिकार दो आदि नारे लिखे हुए थे। जागरूकता रैली के दौरान कालेज की छात्राओं में कठुआ और उन्नाव में हुई दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर काफी गुस्सा देखा गया। उन्होंने लोगों से अपील की कि इन दोनों घटनाओं के खिलाफ एकजुट हों।

बढती घटनाओं को देखते हुए बीते कुछ दिनों पहले राज्य की महिला कांग्रेस ने बयान दिया था। अपने बयान में बीजेपी को निशाना बनाते हुए बातचीत के दौरान उन्होंने कहा था कि भाजपा महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पूरी तरह से फेल साबित हुई है। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की सुरक्षा महिलाओं के लिए नहीं है। साथ ही उन्होंने बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ को भी निशाना बनाया है और कहा है कि भाजपा का बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ का नारा पूरी तरह से बेईमान साबित हो रहा है क्योंकि आज जो रक्षक है वहीं भक्षक हो गया है

Related Articles