World Population Day आज, ऐसे में कैसे करें लोगो को जागरूक

आज 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाता है। दुनिया की बढ़ती आबादी के प्रति जागरूकता लाने के लिए हर साल आज के दिन को जनसंख्या दिवस (World Population Day 2020) के तौर पर मनाया जाता है।

लखनऊ: आज 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाता है। दुनिया की बढ़ती आबादी के प्रति जागरूकता लाने के लिए हर साल आज के दिन को जनसंख्या दिवस (World Population Day 2020) के तौर पर मनाया जाता है। इसका उद्देश्‍य दुनियाभर में बढ़ती आबादी से जुड़ी समस्‍याओं के प्रति लोगों को जागरुक करना है। हमारे देश के लिए भी बढ़ती आबादी कई समस्‍याओं का कारण बनती जा रही है।

जनसंख्या के लिए बनते कानून

सरकार को जनसंख्या नियंत्रण पर कानून बनाने की बात कोई नई बात नहीं है। राजनीतिक और सामाजिक दोनों से देश में जनसंख्या विस्फोट को काबू करने की मांग उठती रही है। इस कोरोना महामारी में सरकार को भी काफी जनाजा भड़ना पड़ा है। भारत, चीन समेत कई विकासशील देशों के लिए बढ़ती जनसंख्या चिंता का विषय है। बहरहाल, यहां हम आपको इस बात से रूबरू करा रहे हैं कि बढ़ती जनसंख्या गरीबी, भुखमरी के अलावा सेहत को किस तरह से प्रभावित करती है।

यह भी पढ़ें: तालाब में गैस सिलेंडर फेंक कर बढ़ती कीमतों के खिलाफ अनूठा विरोध प्रदर्शन

आज दुनिया की आधी से ज्यादा आबादी एशियाई देशों में है। जनसंख्या के लिहाज से चीन और भारत पहले और दूसरे नंबर पर हैं। Worldometer के मुताबिक भारत की आबादी 1.39 अरब है। एक अनुमान के मुताबिक भारत में हर मिनट 25 बच्चे पैदा होते हैं। अगर इसी रफ्तार से हमारी आबादी बढ़ती रही तो आने वाले 10 साल में भारत दुनिया में सबसे ज्यादा आबादी वाला देश होगा। आपको बता दें, साल 2020 में भारत की आबादी 138 करोड़ थी और एक साल के भीतर 1 करोड़ की जनसंख्या का इजाफा हुआ है।

यह भी पढ़ें: WhatsApp ने लगाई अपनी Private Policy पर रोक, दिल्ली हाईकोर्ट में हुई ये बात

Related Articles