IPL
IPL

World Sparrow Day: जानें विलुप्त हो रही ‘गौरैया चिड़िया’ को वापिस बुलाने के उपाय

विश्व गौरैया दिवस को विलुप्त हो रही गौरैया के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से 20 मार्च के दिन मनाया जाता है।

लखनऊ: आज पूरे विश्व भर में ‘विश्व गौरैया दिवस’ (World Sparrow Day) मनाया जा रहा है। यह दिवस हर साल 20 मार्च के दिन होता है। दुनिया में गौरैया चिड़िया धीरे-धीरे विलुप्त हो रही है। जिसके संरक्षण के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के उद्देश्य से इस दिवस को मनाया जाता है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ‘विश्व गौरैया दिवस’ के मौके पर ट्वीट कर के कहा कि ईश्वर प्रदत्त इस अनुपम उपहार का अस्तित्व संकट में है, आइये हम सब इसे बचाने का संकल्प लें और प्रकृति के सौंदर्य के साथ धरा के संतुलन को बनाये रखने में योगदान दें।

गौरैया के प्रति जागरूकता

विश्व गौरैया दिवस को गौरैया के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से मनाया जाता है। इसके अलावा ये शहरी वातावरण में रहने वाले आम पक्षियों के प्रति जागरूकता लाने हेतु भी मनाया जाता है। इसे हर साल 20 मार्च के दिन मनाया जाता है। ये नेचर फोरेवर सोसाइटी (भारत) और इको-सिस एक्शन फाउंडेशन (फ्रांस) के मिले जुले प्रयास के कारण मनाया जाता है।

गौरैया की मदद

नेचर फॉरएवर सोसाइटी (Nature Forever Society) की शुरुआत मोहम्मद दिलावर ने की थी, जो एक भारतीय संरक्षणवादी थे, जिन्होंने नासिक में घर के गौरैया की मदद करने के लिए अपना काम शुरू किया था, और जिन्हें उनके प्रयासों के लिए 2008 तक ‘हीरोज ऑफ द एनवायरनमेंट’ (Heroes of the Environment) में से एक का नाम दिया गया था। विश्व गौरैया दिवस को चिह्नित करने का विचार नेचर फॉरएवर सोसायटी के कार्यालय में एक अनौपचारिक चर्चा के दौरान सामने आया।

विश्व गौरैया दिवस: लुप्त होती गौरैयों का कुछ इस तरह से करें बचाव -  celebrating-world-sparrow-day-how-to-save-sparrow

 

हाउस स्पैरो (House Sparrow) और अन्य सामान्य पक्षियों के संरक्षण के संदेश को व्यक्त करने के लिए विचार किया गया था। पहला विश्व गौरैया दिवस 2010 में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में मनाया गया था। कला प्रतियोगिताओं, जागरूकता अभियानों और गौरैया के जुलूसों के साथ-साथ मीडिया के साथ बातचीत के दौरान विभिन्न प्रकार की गतिविधियों और घटनाओं को अंजाम देकर दिन मनाया गया।

Sparrow को बुलाने के उपाय

  • गौरेया को फिर से बुलाने के लिए अपने घर के छत पर दाना और कटोरे में पानी रखें।
  • घर के आस-पास पेड़-पौधे लगाएं। ताकि गौरेया इन पेड़ो से मोहित होकर कर फिर लौट सके।
  • आप अपने घर के छत या गार्डन में मार्केट से बने आर्टिफिशियल घोंसले लाकर रख सकते हैं।

यह भी पढ़ेBirthday Special : जब Alka Yagnik ने Amir Khan को भगाया था स्टूडियो से बाहर, फिर कहना पड़ा था ‘Sorry’

Related Articles

Back to top button