World TB Day 2021: जानें टीबी के लक्षण, कैसे करें उपचार, क्या है इस साल का थीम?

हर साल 24 मार्च का दिन विश्व टीबी  (TB) दिवस के तौर पर जाना जाता है। टीबी यानी क्षयरोग एक घातक संक्रामक रोग है। यह बिमारी माइकोबैक्टीरियम (Mycobacterium) ट्यूवरक्लोसिस (Tuberculosis) जीवाणु की वजह से होता है।

नई दिल्ली: हर साल 24 मार्च का दिन विश्व टीबी  (TB) दिवस के तौर पर जाना जाता है। टीबी यानी क्षयरोग एक घातक संक्रामक रोग है। यह बिमारी माइकोबैक्टीरियम (Mycobacterium) ट्यूवरक्लोसिस (Tuberculosis) जीवाणु की वजह से होता है। यह जीवाणु ज्यादतर फेफड़ों पर हमला करती है। एक बार इस के प्रकोप के बाद यह शरीर के अन्य भागों को भी प्रभावित कर सकता है। यह रोग हवा के माध्यम से फैलता है।

विश्व टीबी दिवस 2021

टीबी से ग्रसित व्यक्ति खांसता, छींकता या बोलता है तो उस संक्रमण फैलने का डर होता है। खांसते, छींकते या बोलते वक्त ड्रॉपलेट न्यूक्ली जीवाणु निकलता है जिस से बीमारी फैलती है। यह कई घंटों तक वातावरण में संक्रिय रहते है। जब एक स्वस्थ व्यक्ति हवा में घुले हुए इन माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस ड्रॉपलेट न्यूक्लीआई के संपर्क में आता है तो वह इससे संक्रमित हो सकता है। टीबी दुनियाभार में होने वाली मृत्यु के बड़े कारणों में से एक है।

क्या है इस साल का World TB Day थीम?

एक्स्ट्रा टीबी मस्तिष्क, गर्भाशय, मुंह, जिगर, गुर्दे या हड्‍डी में हो सकती है। फेफड़ों के अलावा दूसरे अंगों को टीबी एक से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैल सकती। 24 मार्च को विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) के जरिए पूरे विश्व में टीबी से संबंधित कई कार्यक्रम चलाए जाते है। विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) का उद्देश्य इस बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करना और इसे जड़ से खत्म करना है। 1882 में 24 मार्च के दिन जर्मन फिजिशियन एवं माइक्रोबायोलॉजिस्ट रॉबर्ट कोच ने इस जानलेवा बीमारी घोषित कर इसका पहचान कर के पुष्टि की थी। इस पुष्टि के बाद टीबी के इलाज में काफी मदद मिली।

यह भी पढ़े

विश्व टीबी दिवस पर हर वर्ष एक विशेष थीम का आयोजन किया जाता है। एवं वर्ष 2021 के लिए इसकी थीम ‘द क्लॉक इज टिकिंग’ (The Clock is Ticking’) रखी गई है। इस थीम को चुनने का कारण यह सुनिश्चित करना है कि लोगों को एहसास हो कि समय समाप्त हो रहा है और वास्तव में कार्रवाई की तत्काल आवश्यकता है।

Related Articles