दुनिया के सबसे बड़े हाइब्रिड रिन्यूएबल एनर्जी पार्क का आज होगा शिलान्यास

प्रधानमंत्री भुज हवाई अड्डे से सीधे धोरडो पहुंचेंगे और समुद्र के खारे पानी को शुद्ध मीठे पानी में परिवर्तित करने वाले चार डिसेलिनेशन प्लांट का वर्चुअल तरीके से भूमिपूजन करेंगे।

गुजरात: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंगलवार को अपने गृह राज्य गुजरात के एक दिवसीय दौरे पर हैं। इस दौरान विश्व के सबसे बड़े अल्ट्रा मेगा हाइब्रिड रिन्यूएबल एनर्जी पार्क (नवीकरणीय ऊर्जा पार्क) का शिलान्यास करेंगे। आधिकारिक सूचना के अनुसार प्रधानमंत्री समुद्र के खारे पानी को पीने योग्य बनाने वाले चार डिसेलिनेशन प्लांट और विश्व के सबसे बड़े अल्ट्रा मेगा हाइब्रिड रिन्यूएबल एनर्जी पार्क का कच्छ के धोरडो स्थित टेंट सिटी से शिलान्यास करेंगे।

डिसेलिनेशन प्लांट का करेंगे भूमिपूजन

प्रधानमंत्री भुज हवाई अड्डे से सीधे धोरडो पहुंचेंगे और समुद्र के खारे पानी को शुद्ध मीठे पानी में परिवर्तित करने वाले चार डिसेलिनेशन प्लांट का वर्चुअल तरीके से भूमिपूजन करेंगे। ये कच्छ के मांडवी के गुंदियाली के अलावा सौराष्ट्र के गांधी वी-द्वारका, घोघा-भावनगर और सूत्रापाडा-सोमनाथ में स्थापित होंगे।

एनर्जी पार्क का करेंगे शिलान्यास

प्रधानमंत्री कच्छ की सरहद पर स्थित बड़े रण में सौर और पवन ऊर्जा के दुनिया के सबसे बड़े 30 हजार मेगावाट क्षमता का हाइब्रिड रिन्यूएबल एनर्जी पार्क का वर्चुअल तरीके से भूमिपूजन भी करेंगे। वे अमूल ब्राण्ड से जुड़ी कच्छ जिला सहकारी दूध उत्पादक संघ लिमिटेड यानी सरहद डेयरी की ओर से अंजार और भचाऊ के बीच 129 करोड़ रुपए की लागत से आकार लेने वाले दो लाख लीटर क्षमता वाले दूध के चिलिंग प्लांट का भूमिपूजन भी करेंगे। धोरडो में प्रधानमंत्री कच्छ के किसानों और कच्छ की सीमा खेती करने वाले पंजाबी किसानों से मुलाकात करेंगे और कच्छ के हस्तकला कारीगरों से भी मिलेंगे।

बता दें कि पीएम मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब राज्य सरकार की ओर से 8.37 करोड़ रुपए की सहायता से कच्छ जिले में साल 2013-14 में दो लाख लीटर की प्रोसेसिंग क्षमता का पहला डेयरी प्लांट स्थापित किया गया था। पहले इस प्लांट के कच्चे दूध को गांधीनगर स्थित अमूल डेयरी में भेजा जाता था और वहां से प्रोसेस के बाद उसे वापस कच्छ भेजा जाता था। अब इस प्लांट के जरिए और दो लाख लीटर दूध और छाछ को प्रोसेस कर अमूल ब्रांड के तहत कच्छ में बेचा जाएगा। पीएम मोदी कच्छ के साल 2001 के विनाशकारी भूकंप प्रभावितों की स्मृति में भुज में तैयार हो रहे मेमोरियल पार्क की मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और अधिकारियों के साथ समीक्षा करेंगे।

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन: किसानों के सम्मान में क्या अब अन्ना भी उतरेंगे मैदान में?

Related Articles

Back to top button