पहलवान बजरंग ने कजाकिस्तान के रेसलर को हराया, जीते कांस्य पदक

बता दें, बजरंग पूनिया ने कमाल का परफॉर्मेंस किया और दोनों राउंड में विरोधी पहलवान पर हावी रहे। इस जीत के साथ ही रेसलर में इस ओलंपिक में दो मेडल आ गए हैं।

टोक्यो: भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Punia) पुरुषों का 65 किग्रा फ्रीस्टाइल में ब्रॉन्ज मेडल जीता है। ओलंपिक में बजरंग का यह पहला मेडल है। ब्रॉन्ज मेडल मैच में बजरंग ने कजाकिस्तान के पहलवान डाउलेट नियाजबेकोव (Doulet Niyazbekov) को 8-0 से हराया।

बता दें, बजरंग पूनिया ने कमाल का परफॉर्मेंस किया और दोनों राउंड में विरोधी पहलवान पर हावी रहे। इस जीत के साथ ही रेसलर में इस ओलंपिक में दो मेडल आ गए हैं। बजरंग से पहले रवि दहिया ने सिल्वर मेडल अपने नाम किया है।

सेमीफाइनल में हारे में थे पूनिया

बजरंग पूनिया को सेमीफाइनल में अजरबैजान के पहलवान हाजी अलीव से 12-5 से हार का सामना करना पड़ा था। पूनिया को मेडल का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा था लेकिन सेमीफाइनल में मिली हार ने भारतीय फैन्स को भी काफी निराश किया है। बजरंग पूनिया के सपोर्ट में योगेश्वर दत्त ने भी ट्वीट कर उन्हें शुभकामनाएं दी है।

बजरंग ने इस तरह भारत की झोली में चौथा कांस्य और कुल छठा पदक डाला है। माकुहारी मेसे हॉल-ए मैट बी पर बजरंग का सामना कजाकिस्तान के दौलत नियाबेकोव से था। बजरंग ने शुरुआत से ही बढ़त बनाए रखते हुए इस मुकाबले को 8-0 से अपने नाम किया और विश्व चैम्पियनशिप, एशियाई चैम्पियनशिप और एशियाई खेलों के बाद अपने नाम ओलंपिक पदक भी कर लिया है।

बजरंग ने राउंड आफ-8 मुकाबले में किर्गिस्तान के इरनाजार अकामातालीव को हराया था। इसके बाद वह क्वार्टर फाइनल में ईरान के मुर्तजा घियासी के खिलाफ विजयी रहे थे लेकिन सेमीफाइनल में वह अजरबैजान के हाजी अलीयेव के हाथों बुरी तरह हार गए थे।

यह भी पढ़ें: ममता ने PM Modi को लिखा पत्र, विद्युत संशोधन विधेयक का किया विरोध

Related Articles