उन्नाव रेप केस के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मुश्किल बढ़ी, छीनी वाई श्रेणी की सुरक्षा

लखनऊ। नाबालिग के साथ गैंगरेप के आरोपों में फंसे विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। कुलदीप सिंह सेंगर इन दिनों सीबीआई रिमांड में हैं इसी बीच उन्हें दी जारी वाई श्रेणी की सुरक्षा छीन ली गई है। वाई श्रेणी की सुरक्षा के तहत एक एचसीपी व तीन सिपाही उनके आवास और तीन सिपाही अंगरक्षक के रूप में तैनात किए गए थे।

कुलदीप सिंह सेंगरआपको बता दें कि उन्नाव की रहने वाली एक युवती ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर गैंगरेप और अपने पिता को मरवाने का आरोप लगाया है। विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर गुंडागर्दी और गैंगरेप का आरोप लगाते हुए रविवार को पीड़िता का पूरा परिवार लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठ गया। इस दौरान पीड़िता ने आत्मदाह करने की कोशिश भी की थी।

इस बीच पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए पीड़िता के पिता की मौत हो गई। पीड़िता का आरोप है कि पिछले साल 4 जून को कुलदीप सिंह और उसके कुछ गुर्गों ने उसके साथ गैंगरेप किया। पीड़िता का यह भी आरोप है कि उसने पुलिस से इसका शिकायत की लेकिन उसकी कहीं सुनवाई नहीं हुई। यहां तक कि दर्ज कराई गई प्राथमिकी में से विधायक कुलदीप सिंह का नाम तक हटा दिया गया।

एसआईटी की रिपोर्ट आने के बाद भी आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। विधायक के खिलाफ आईपीसी की धारा 363 (अपहरण), 366 (अपहरण कर शादी के लिए दवाब डालना), 376 (बलात्‍कार), 506(धमकाना) और पॉस्‍को एक्‍ट के तहत मामला दर्ज किया है।

फिलहाल आरोपी विधायक इन दिनों सीबीआई रिमांड में हैं। गुरुवार को भी सीबीआई ने पीड़िता और उसकी मां व चाचा से लंबी पूछताछ की

Related Articles