यजीदी महिला का दर्द सुनकर रो पड़े यूएन मेंबर्स

Yazidi woman

संयुक्त राष्ट्र संघ। यूनाइडेट नेशन सिक्यॉरिटी काउंसिल में यजीदी लड़की की दर्दनाक कहानी सुनकर यूएन मेंबर्स भी रोने लगे। आईएसआईएस के लड़ाकों की प्रताड़ना और रेप करने की सारी कहानी वह लड़की काउंसिल में बता रही थी। इस लड़की को आईएस ने अगवा कर तीन महीने तक अपने कब्जे में रखा था।

21 साल की नादिया मुराद बसी ताहा ने काउंसिल के अधिकारियों के सामने कहा, ‘रेप को ये आतंकी महिलाओं और लड़कियों को नष्ट करने में हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं। ये आतंकी खुद को रेप से माध्यम से सुनिश्चित कर लेना चाहते हैं कि वह लड़की कभी सामान्य जिंदगी नहीं जी पाएगी।’ नादिया मुराद ने यह बात यूनाइटेड नैशन की सिक्यॉरिटी काउंसिल में मानव तस्करी पर हुई बैठक में 15 सदस्यों के सामने कही।’
नादिया ने कहा, ‘इस्लामिक स्टेट यजीदी महिलाओं को हवस मिटाने मिटाने के लिए लाते हैं।’ इराक और सीरिया के ज्यादातर हिस्सों पर आईएस का कब्जा है। नादिया ने कहा, ‘मुझे इराक में अपने गांव से पिछले साल अगस्त में अगवा किया गया था। इस्लामिक स्टेट के गढ़ मोसुल में ये आतंकी मुझे बस के जरिए एक बिल्डिंग में ले गए थे। वहां हजारों यजीदी महिलाओं और और बच्चों को ये लड़ाके आपस में तोहफे की तरह बांटते हैं।’

कुछ दिनों बाद नादिया को एक आदमी के पास भेजा गया। नादिया ने बताया, ‘उसने मुझे तैयार होने के लिए कहा। उसके बाद की भयावह रातों को मैं बता नहीं सकती। उसने जो किया वह बेहद खौफनाक था। अपने सैन्य गुट के हिस्से के रूप में काम करने के लिए मुझे मजबूर किया। वह मुझे हर दिन अपमानित करता था। मैं भागने की कोशिश की लेकिन एक गार्ड ने मुझे रोक लिया था।’

नादिया ने बताया, ‘उस रात मुझे मारा गया। मुझे उसने अपने कपड़े उतारने के लिए कहा। उसने मुझे एक कमरे में एक गार्ड के साथ बंद कर दिया। जब तक मैं बेहोश नहीं हो गई तब तक वह दरिंदगी करता रहा। मैं आपसे प्रार्थना कर रही हूं कि आईएस से छुटकारा दिलाओ। इस्लामिक स्टेट ने मेरे कई भाइयों की हत्या कर दी। मैं फरार होने में कामयाब रही और अभी जर्मनी में हूं।’

अपनी कहानी बताते हुए नादिया रो रही थी। यूएन सिक्यॉरिटी काउंसिल ने नादिया के साहस की सराहना की। यूनाइडेट नेशन ने कहा कि इस्लामिक स्टेट यजीदी को खत्म करने के लिए नरसंहार को अंजाम दे रहा है। वह चाहता है कि यजीदी बचें ही न। यजीदी इराक में अल्पसंख्यक हैं। यूएन सिक्यॉरिटी काउंसिल ने इस मामले को इंटरनेशनल क्रिमिनल कोर्ट को पास प्रॉसिक्यूशन के लिए भेज दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button