डॉलर के आगे फीकी पड़ी पीली धातुएं, आई 13 फीसदी गिरावट

0

नई दिल्ली। फेड के बयान के बाद डॉलर मजबूत होने से सोने और चांदी की चमक एक बार फिर फीकी पड़ गई है। विदेशी बाजार में महंगी धातुओं में आई गिरावट का असर गुरुवार को घरेलू वायदा बाजार में भी देखा गया।
अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पीली धातु पिछले करीब तीन महीने से कमजोर बनी हुई है और इस बीच इस साल के उच्चतम स्तर 1,365 डॉलर से अब तक करीब 13 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज यानी एमसीएक्स पर अक्टूबर वायदा अनुबंध सोना अपराह्न् करीब 12.40 बजे 114 रुपये यानी 0.38 फीसदी की गिरावट के साथ 29,564 रुपये प्रति दस ग्राम पर बना हुआ था। वहीं, चांदी का सितंबर डिलीवरी अनुबंध 317 रुपये यानी 0.86 फीसदी की कमजोरी के साथ 36,583 रुपये प्रति किलो पर बना हुआ था।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर पूर्वाह्न् 3.09 ईडीटी यानी भारतीय समयानुसार अपराह्न् 12.39 बजे सोने के दिसंबर वायदा अनुबंध में 9.50 डॉलर यानी 0.79 फीसदी की गिरावट के साथ 1,193.80 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार हो रहा था।

चांदी का दिसंबर अनुबंध 0.21 डॉलर यानी 1.42 फीसदी फिसलकर 14.54 डॉलर प्रति औंस पर बना हुआ था। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने का हाजिर भाव 8.28 डॉलर यानी 0.69 फीसदी की कमजोरी के साथ 1,187.52 डॉलर प्रति औंस था।

अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की ओर से ब्याज दर में बढ़ोतरी का संकेत देने के बाद एक बार फिर डॉलर गुरुवार को दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले मजबूत हो गया।

डॉलर में आई तेजी से सोने और चांदी में निवेश मांग घट गई है। बाजार के जानकार बताते हैं कि अमेरिकी संरक्षणवादी नीतियों से डॉलर में सुरक्षित निवेश देखा जा रहा है।

यही कारण है कि महंगी धातुओं की चमक फीकी पड़ती जा रही है। हालांकि भारतीय सर्राफा बाजार में आगे त्योहारी सीजन शुरू होने से में सुस्ती रहने की संभावना कम है क्योंकि त्योहारी सीजन में जेवराती मांग बढ़ जाती है।

loading...
शेयर करें