महोबा कांड को लेकर योगी सरकार ने गठित की एसआईटी, सात दिनों में सौपेगी रिपोर्ट

Lucknow: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने चर्चित महोबा कांड को लेकर सख्त रुख अपना लिया है। योगी सरकार ने महोबा जिले के कारोबारी इन्द्रकांत त्रिपाठी की मौत की जांच केलिए एसआईटी का गठन कर दिया है। इससे पहले सरकार ने व्यापारी की संदिग्ध परिस्थियों में मौत के बाद एसपी मणिलाल पाटीदार को निलंबित करके उनके खिलाफ केस दर्ज किया था।

Government formed SIT to investigate against Mahoba's former SP; Will also  investigate businessman's death, report to be submitted in 7 days | महोबा  के पूर्व एसपी के खिलाफ रिश्वतखोरी मामले में शासन

वहीँ अब सरकार ने अब इस घटना की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया है, जिसका नेतृत्व वाराणसी आईजी विजय सिंह मीणा करेंगे। सरकार ने एसआईटी से घटना की विस्तृत रिपोर्ट सात दिनों में सौपने को कहा है।
डीजीपी यूपी ने बताया कि पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार के खिलाफ रिश्वतखोरी और जानलेवा हमला करवाने का केस दर्ज किया गया है, जिसका जाँच एसआईटी करके सात दिनों में रिपोर्ट सौपेगी। इसके आलावा एसआईटी व्यवपारी इन्द्रकांत त्रिपाठी के मौत कारणों का भी पता लगाएगी। एसआईटी टीम में विजय सिंह मीणा के अलावा डीआईजी शलभ माथुर और एसपी अशोक कुमार त्रिपाठी भी शामिल है।

बता दें कि महोबा के क्रशर व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी की रहस्यमयी ढंग से मौत हो गई थी,मौत के पहले उन्होंने एक वीडियों बनाकर तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार के उपर आरोप लगाया था कि एसपी उनसे छह लाख रूपये महीने की रिश्वत मांग रहे हैं और ना देने पर जान से मारने की धमकी दे रहे है। इसके बाद ही व्यापारी को गोली मार दी गई थी, घायल अवस्था में उसको अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्ही मौत हो गई थी। व्यापारी का वीडियों वायरल के बाद सरकार ने एसपी मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर हत्या के तहत केस दर्ज कराया था। इस मामले को लेकर विपक्ष लगातार योगी सर्कार पर हमलावर था।

Related Articles

Back to top button