योगी सरकार ने स्वरोजगार कार्यक्रम को सर्वोच्च प्राथमिकता दी: नवनीत सहगल

सूबे में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अपर मुख्य सचिव डा नवनीत सहगल ने कहा कि इस माह के अंत में भव्य ऋण वितरण मेले का आयोजन होगा।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश से निर्यात को बढ़ावा देने के लिए पहले से ही एक्सपोर्ट प्लान तैयार कराये जाने की कार्यवाही चल रही है जबकि प्रत्येक जिले में वृहद रूप से रोजगार सृजन के लिये रोजगार प्लान बनाया जायेगा। सूबे में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अपर मुख्य सचिव डा नवनीत सहगल ने कहा कि इस माह के अंत में भव्य ऋण वितरण मेले का आयोजन होगा।

ऋण स्वीकृत प्रमाण-पत्रों का वितरण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि वे बैंको से समन्वय बनाकर लोन डिस्बर्स की कार्यवाही समय से पूर्ण करायें। उन्होंने कहा कि एक जिला-एक उत्पाद (ओडीओपी) एवं विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत टूल किटों के वितरण को विशेष प्राथमिकता दी जाय और प्रत्येक दशा में आगामी 30 नवम्बर तक टूलकिट वितरण का कार्य पूर्ण कर लिया जाय। अन्यथा लापरवाही अथवा उदासीनता बरतेगें वाले कर्मियों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जायेगी।

राज्य सरकार ने स्वरोजगार कार्यक्रम को सर्वोच्च प्राथमिकता दी

डा सहगल ने कहा कि राज्य सरकार ने स्वरोजगार कार्यक्रम को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है, इसके तहत उद्यमियाें तथा नवउद्यमियों को रोजगार स्थापित करने के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराये जाने का प्राविधान किया गया है। विभागीय कार्यों की समीक्षा करते हुए डा सहगल ने कहा कि प्रत्येक जनपद में वृहद रूप से रोजगार सृजन के लिये रोजगार प्लान बनाया जायेगा। उत्तर प्रदेश से निर्यात को बढ़ावा देने के लिए पहले से ही एक्सपोर्ट प्लान तैयार कराये जाने की कार्यवाही चल रही है। इस वित्तीय वर्ष एमएसएमई विभाग को 50 लाख लोगों को रोजगार/स्वरोजगार से जोड़ने का लक्ष्य मिला है। अभी तक छह लाख से अधिक नई इकाइयों को 18 हजार करोड़ का ऋण दिया जा चुका है।

ये भी पढ़े : देश हो रहा जागरूक, सोनिया, राहुल को चुप्पी तोड़कर जवाब देना चाहिए: भाजपा

छोटी-बड़ी औद्योगिक इकाइयों में भी ऋण वितरित किया

इसके अतिरिक्त पहले से चल रही छोटी-बड़ी औद्योगिक इकाइयों में भी ऋण वितरित किया गया है। इससे भारी संख्या में रोजगार का सृजन हुआ है। साथ ही प्रदेश में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों का तेजी से विकास भी हो रहा है। अपर मुख्य सचिव ने कहा कि विभाग में अधिकारियों और कर्मचारियों के पदोन्नति के जितने प्रकरण विचाराधीन हैं, उनको तत्काल निस्तारित कराया जाय। कर्मियों को समय से एसीपी का लाभ दिया जाय। उन्होंने एमएसएमई एक्ट के प्रभावी क्रियान्वयन सहित अयोध्या में सीपेट के ट्रेनिंग सेंटर की स्थापना तथा खिलौना नीति की प्रगति से अवगत हुए और जल्द से जल्द इसे तैयार करने के निर्देश भी दिए।

ये भी पढ़े : सीमा विवाद का मुद्दा उठाकर लोगों को बहकाना चाहते हैं अजीत पवार’

प्रदेश के औद्योगिक आस्थानों में अवस्थापना

इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश के औद्योगिक आस्थानों में अवस्थापना सुविधाओं को सुदृढ़ बनाने तथा अनुसूचित जाति/जनजाति के व्यक्तियों को स्वरोजगार हेतु सामूहिक प्रशिक्षण दिये जाने संबंधी कार्यों की विस्तार से समीक्षा की और आवश्यक निर्देश भी दिये।

Related Articles

Back to top button