योगी सरकार ने बच्चों को किया तनावमुक्त, सरकारी स्कूलों में एक दिन का होगा नो-बैग डे

सरकारी प्राइमरी स्कूलों के प्री-प्राइमरी से लेकर कक्षा 8 तक के छात्रों के लिए हफ्ते में एक दिन ‘नो-बैग डे' लागू किया जा रहा है। इन सभी विद्यार्थियों को तनावमुक्त रखने के लिए प्रदेश में ये नियम लागू किया जा रहा है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पढ़ाई के समय बच्चों के मानसिक तनाव को ध्यान में कहते हुए पढ़ाई करने का नया तरीका आजमाया है। प्रदेश सरकार ने बच्चों की पढाई को रोचक बनाने के लिए बड़ा फैसला लिया है। इसके लिए सरकारी प्राइमरी स्कूलों के प्री-प्राइमरी से लेकर कक्षा 8 तक के छात्रों के लिए हफ्ते में एक दिन ‘नो-बैग डे’ लागू किया जा रहा है। इन सभी विद्यार्थियों को तनावमुक्त रखने के लिए प्रदेश में ये नियम लागू किया जा रहा है। ‘नो-बैग डे’ के नियम से अब बच्चों पर खेल-खेल में रोचक ढंग से पढ़ाई कराने पर जोर दिया जाएगा।

नई शिक्षा नीति-2020 के तहत इसमें नए बदलावों को लागू कराने के लिए यूपी के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा की अध्यक्षता में टास्क फोर्स की बैठक में ये फैसला लिया है। इन नए नियमों के अनुसार अब यूपी में प्राइमरी से लेकर कक्षा 8 तक के विद्यार्थियों को अब बिना स्कूल बैग के ही विद्यालय आना होगा और खेल-खेल में मनोरंजन के माध्यम से उन्हें कठिन से कठिन पाठ को आसानी से समझाया जा सकेगा। दिनेश शर्मा की अध्यक्षता में हुई बैठक में विद्यार्थियों को रोचक ढंग से पढ़ाने के लिए जरूरी संसाधन जुटाने के भी निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़े : अक्षय कुमार ने अयोध्या में राम सेतु बनाने के लिए सीएम योगी से मांगी अनुमति

बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की निदेशक ने कहा

इस बैठक में बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की निदेशक डॉ. सारिका मोहन ने विद्यार्थियों को रोचक ढंग से पाठ पढ़ाने के लिए नई शिक्षा नीति-2020 के तहत बदलाव किए जाने पर जोर दिया। अब इन आदेश के बाद सरकारी स्कूलों में हफ्ते में एक दिन विद्यार्थियों के लिए नो-बैग डे निर्धारित करने पर भी सहमति बनी। वही प्राविधिक शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव एस राधा चौहान ने कहा कि प्राइमरी स्कूलों के शिक्षकों व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के बीच सामंजस्य स्थापित होना अनिवार्य है।

 

Related Articles